1.5 लाख का मंगलसूत्र गटक गया बैल, 8 दिन तक गोबर में तलाशा लेकिन जब नहीं निकला तो…

भारत में गाये बेल आदि पशुओं को बहुत पूजा जाता है खास कर गाये और बेल को हिन्दू संस्कृति में बहुत सम्मान दिया जाता है लेकिन वहीँ दूसरी ओर आये दिन हम सुनते रहते हैं कि सड़क पर आवारा घूमने वाले किसी आवारा पशु ने पॉलीथीन या कोई ऐसा सामान निगल लिया या कोई चीज ऐसी चीज खाली जो पच नहीं पायी, जिसे बाद में ऑपरेशन करके उसे निकालना पड़ता है पर क्या आपने कभी सुना है कि किसी पशु ने लाखों रुपए का कोई ऐसा कीमती सामान निगल लिया हो जिसे वापस पाने के लिए आठ दिन का इंतजार करना पड़ा। जी हाँ ऐसा ही हाल ही में एक बेल के कीमती हार निगल लेने का मामले सामान आया है|

बता दें कि यह मामला महाराष्ट्र के एक किसान परिवार के बेल का है, जहां एक बैल डेढ़ लाख रुपए का मंगलसूत्र निगल गया। घर के मालिक को जब बेल के द्वारा मंगलसूत्र निगलने की बात पता चली तो उसके होश उड़ गए| उसने मंगलसूत्र को वापस पाने के लिए आठ दिनों तक बैल के गोबर को तलाशा, लेकिन उसे मंगलसूत्र नहीं मिला।

आपको बता दें कि यह चौंकाने वाली घटना महाराष्ट्र में अहमदनगर जिले के रायते वाघपुर गांव की है जो इन दिनों चल रहे ग्रामीण इलाक़ों में एक पोला नामक त्यौहार के चलते हुई है| जानकारी के लिए आपको बता दें कि इन दिनों महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के ग्रामीण इलाकों में पोला नामक त्यौहार मनाया जाता है और इस त्यौहार का मकसद मानव और पशुओं के बीच संबंधों को सम्मान देना होता है।

बता दें कि पोला त्यौहार में परंपरा के मुताबिक किसान अपने बैल को सजाते हैं और गांव में एक जुलूस निकाला जाता है। घर की महिलाएं आरती करके बैल की पूजा करती हैं। इसके अलावा बैल के माथे पर सोने का आभूषण भी सजाए जाते हैं|

इसी तरह से त्यौहार के चलते बीते 30 अगस्त को रायते वाघपुर गांव के रहने वाला एक किसान जब शाम को अपने बैलों के साथ जुलूस कर के घर लौटा तो उसकी पत्नी ने बैलों की आरती उतारी। इसके बाद किसान की पत्नी ने अपना मंगलसूत्र बैल के माथे पर सजाया और वापस उसे पूजा की थाली में रख दिया। आरती के बाद किसान की पत्नी बैल को मीठी रोटी खिला ही रही थी कि अचानक बिजली चली गई।

इसके बाद किसान की पत्नी थाली को जमीन पर रखकर अंदर मोमबत्ती लेने चली गई। इतनी देर में बैल ने जमीन पर रखी वो मीठी रोटी खाली और उसके साथ साथ सोने का मंगलसूत्र भी निगल लिया। किसान की पत्नी मोमबत्ती लेकर लौटी तो उसे एहसास हुआ कि बैल ने रोटी के साथ साथ उसका मंगलसूत्र भी निगल लिया है। पत्नी ने तुरंत इस बात की खबर अपने पति को दी।

किसान ने बैल का मुंह खोलकर मंगलसूत्र तलाशने की कोशिश की लेकिन मंगलसूत्र नहीं मिला। किसान के मुताबिक मंगलसूत्र करीब 1.5 लाख रुपए की कीमत का था। बैल के मंगलसूत्र निगलने की बात सुनकर आस पास के किसान भी उसके घर पहुंचे और उन्होंने किसान दंपति को सुझाव दिया कि बैल के गोबर में मंगलसूत्र निकल जाएगा।

इसके बाद किसान दंपति ने बैल के गोबर में मंगलसूत्र निकलने का इंतजार किया। दिन बीतते गए लेकिन बैल के गोबर में मंगलसूत्र नहीं निकला और किसान दंपति की चिंता बढ़ती गई। यहां तक कि किसान ने बैल का सारा गोबर अपने खेत में सुरक्षित जमा कर के रख लिया।

आठ दिन तक इंतजार करने के बाद भी जब गोबर में मंगलसूत्र नहीं निकला तो किसान पशुओं के डॉक्टर के पास अपने बैल को लेकर पहुंचा। पशु चिकित्सक ने जब जांच की तो पता चला कि मंगलसूत्र बैल के रेटिकुलम में फंसा हुआ है।

इसके बाद बैल का ऑपरेशन किया गया और मंगलसूत्र को निकाला गया। किसान को अपना 1.5 लाख रुपए का मंगलसूत्र पाने के लिए बैल के ऑपरेशन पर 5 हजार रुपए खर्च करने पड़े। इसके बाद डॉक्टर ने किसान से बैल को एक से दो महीने के आराम की सलाह दी।

साभारः #OneIndiaHindi