जवान युवतियों के साथ दुष्क’र्म के आरो’पी चिन्मयानंद के खिला’फ 43 वीडियो सबूत के तौर पर दिए

स्वामी चिन्मयानंद के द्वारा एक महिला का शोष’ण करने का मामला अभी तीख पर है| हाल ही में उस महिला का एक बयान सामने आया है जिसमे उसने स्वामी द्वारा किये गए शोष’ण की पूरी ज्ञाता व्यक्त की है| महिला ने बताया कि स्वामी चिन्मयानंद ने मेरी विवशता का फ़ायदा उठाकर धोखे से मेरा नहाते वक़्त का वीडियो बनाया, फिर उससे ब्लैकमेल करके मेरे साथ गलत काम किया और फिर उसका भी वीडियो बनाकर एक साल तक मेरा शोष’ण करते रहे, मुझे लगा कि इनको इसी तरह से जवाब दिया जा सकता है क्योंकि इनसे लड़ने की न तो मेरी हैसियत थी और न ही मुझमें ताक़त थी|

बीबीसी से बातचीत के दौरान लड़की ने बताया कि मैंने लॉ की पढ़ाई भी उसी कॉलेज में की है लेकिन तब तक कुछ पता नहीं था| एलएलएम में एडमिशन के लिए जब कॉलेज के प्रिंसिपल के कहने पर चिन्मयानंद से मिली, उसके बाद से मैंने इनका असली चेहरा देखा|

इसके बाद उसने बताया कि शाहजहांपुर में मैं प्रशासन या पुलिस से इनकी शिकायत तक नहीं कर सकती थी क्योंकि वे लोग तो ख़ुद ही आश्रम में इनके पास आशीर्वाद लेने आते थे फिर मेरे दोस्त ने मुझे ये तरीक़ा सुझाया और मैंने ऑनलाइन कैमरा मंगाकर स्वामी का वीडियो बना लिया|

बता दें कि स्वामी चिन्मयानंद पर फ़िलहाल लड़की के अपह’ण और धम’की देने के आरोप के संबंध में सुप्रीम कोर्ट के निर्देशन में एसआईटी जांच कर रही है| पीड़ि’त लड़की का मेडिकल परीक्षण भी कराया जा चुका है लेकिन रे$प की कोई एफ़आईआर दर्ज नहीं हुई है|

इसी बीच पिछले चार दिनों में एसआईटी की टीम कई बार मुमुक्षु आश्रम में स्वामी चिन्मयानंद से घंटों पूछताछ कर चुकी है, बताया जा रहा है कि उनका मोबाइल फ़ोन भी एसआईटी ने ज़ब्त कर लिया है|

आपको बता दें कि जांच के पहले दिन चिन्मयानंद का कमरा भी सील कर दिया गया था लेकिन कुछ सामान अपने कब्ज़े में लेने के बाद एसआईटी ने उस कमरे को दोबारा खोल दिया है|

वहीँ दूसरी ओर पीड़ित लड़की और उनके पिता ने सबूत के तौर पर 43 नए वीडियो एसआईटी टीम को सौंपे हैं| पीड़ित लड़की ने बीबीसी से बातचीत में दावा किया था कि उसके पास इस बात के पर्याप्त सबूत हैं कि स्वामी चिन्मयानंद ने उसके साथ कई बार ज़बरन रे’प किया है|

लड़की के मुताबिक, कुछ अन्य लड़कियों के साथ भी हुए शोषण के सबूत उसके पास हैं जिन्हें उन्हीं लड़कियों ने उसे मुहैया कराए हैं जो ख़ुद पीड़ित हैं| स्वामी चिन्मयानंद से उनका पक्ष जानने की कोशिश की गई लेकिन उन्होंने साफ़तौर पर मीडिया से न सिर्फ़ बात करने से मना कर दिया बल्कि मिलने से भी साफ़ इनकार कर दिया है|

हालांकि जवाब देने के लिए उनके प्रवक्ता और वकील ओम सिंह ज़रूर सामने आए| उनका कहना है कि जो कुछ भी हो रहा है, स्वामी जी की छवि को ख़राब करने और उन्हें सामाजिक स्तर पर बदनाम करने की साज़ि’श के तहत हो रहा है, एसआईटी की जांच में सब सामने आ जाएगा|

साभारः #BBCNews