उलेमाओं पर मेहरबान सरकार, दोपहिया वाहन खरीदने पर 50% सब्सिडी, पेंशन भी डबल की

नई दिल्लीः तमिलनाडु में बुधवार का दिन मुस्लिम समाज और वक्फ संस्थानों में सेवा दे रहे उलेमाओं के लिए खुशखबरी लेकर आया है। बताएं तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी ने बजट सत्र के दौरान वक्फ संस्थानों में सेवा दे रहे उलेमाओं को लेकर बड़ा ऐलान किया है। सीएम पलानीस्वामी ने उलेमाओं को नया दोपहिया वाहन खरीदने के लिए 50 फीसदी सब्सिडी देने की घोषणा की है।

तमिलनाडु विधानसभा में आयोजित बजट सत्र के दौरान प्रदेश के मुख्यमंत्री के.पलानीस्वामी ने कहा कि अभी तक पेश इमाम, मोतीनार, अरबी शिक्षक और मुजावर जैसे उलेमाओं को 1500 रुपये बतौर पेंशन दी जाती थी। लेकिन अब इसे 1500 से बढ़ाकर 3000 रुपये कर दिया गया है। इसके साथ ही उन्होंने ऐलान किया कि हज हाउस के लिए 15 करोड़ रुपये दिए जाएंगे।

बजट सत्र के दौरान मुख्यमंत्री पलानीस्वामी ने ऐलान किया कि जयललिता ने महिला बच्चों के लिए काम किया और महिला बच्चों के लिए बहुत सारि योजनाएं दीं. हमारी राज्य सरकार 24 फरवरी को जयललिता के जन्मदिन को राज्य महिला बाल संरक्षण दिवस के रूप में बनाएगी। और चयन किया जाएगा जहां लड़कियों का अनुपात अधिक है इन्हे जिलों को स्वर्ण, रजत और कांस्य पुरस्कार दिया जाएगा।

इस दौरान सदन में मेज की थपथपाते विधायकों के बीच मुख्यमंत्री पलानीस्वामी ने कहा कि हम उलेमाओं की पेंशन 1500 रुपए से बढ़ाकर 3000 रुपए की जाएगी। आपको बता दें तमिलनाडु में 2814 वक्फ संस्थान हैं और इन संस्थानों में काम कर रहे उलेमाओं को नया दोपहिया वाहन खरीदने के लिए 25 हजार रुपए या वाहन की कीमत की आधी राशि बतौर सब्सिडी दी जाएगी।

वही तमिलनाडु के सरकारी अनाथालयों में रहने वाली बच्चियों के लिए भी फंड की राशि बढ़ा दी गई है। पहले यह 2 हजार रुपये प्रति माह थी, जिसे बढ़ाकर 4 हजार रुपये कर दिया गया है। वही अनाथ बच्ची की उम्र 21 साल होने पर उसके खाते में 2 लाख रुपये जमा कराए जाएंगे।