बाबरी मस्जिद केस लड़ने वाले वकील राजीव धवन का बयान कहा- देश का माहौल मुस्लि’म नहीं, हिंदू बिगाड़ते हैं और..

नई दिल्ली: अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट में मुस्लि’म पक्षकार सुन्नी सेंट्रल वक़्फ़ बोर्ड की तरफ से पैरवी करने वाले वकील राजीव धवन (rajiv dhawan) ने हिंदू-मुस्लि’म से जुड़े मुद्दों पर अपने बयान पर स्पष्टीकरण दिया है। राजीव धवन ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि देश का माहौल सिर्फ हिंदुओं की वजह से भंग होता है। मुस्लि’म ऐसा कभी नहीं करते। धवन ने आगे कहा कि मुस्लि’म पक्ष के साथ अन्याय हुआ है। और अयोध्या पर आए फैसले पर अब मुस्लि’म पक्ष पुनर्विचार याचिका दायर न करे तो बहेतर होगा।

आपको बता दें राजीव धवन ने एक इंटरव्यू में कहा था कि मुस्लि’म नहीं, बल्कि हिंदू शांति व्यवस्था बिगा’ड़ते हैं. अब उन्होंने अपने इस बयान को टीवी चैनलों की चालाकी बताया है. राजीव धवन ने कहा है, जब मैं हिंदू बोलता हूं तो उसका मतलब सभी हिंदू नहीं होता उन्होंने अपने बयान को स्प’ष्ट करते हुए कहा,

मुस्लिम नहीं, हिंदू बिगाड़ते हैं शांति व्यवस्था: राजीव धवन

जब मैं कहीं पर हिंदू शब्द का प्रयोग कर रहा हूं तो उसका मतलब है संघ परिवार जो बाबरी मस्जिद मामले से जुड़ा है. कोर्ट में मैं लोगों को कहता था कि जो लोग बाबरी विध्वंस में शामिल थे वो हिंदू ता’लिबा’नी हैं. मैं संघ परिवार के उस ख़ास हिस्से की बात कर रहा हूं जो हिं’सा और लिं’चिं’ग से जुड़ा है।

वही राजीव धवन ने कहा की मुस्लि’म पक्ष को सुप्रीम कोर्ट की तरफ से ऑफर कि गई कोई जमीन को कबूल नहीं करना चाहिए। हलाकि जब ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने कहा है कि वो इस मामले में अदालत के फैसले के खिला’फ पुनर्विचार याचिका दाखिल करेगी। क्योकि यह हमारा संविधानिक अधिकार है और हम पुनर्विचार याचिका दायर करेंगे।

आपको बता दें कि बीते 9 नवंबर को देश के दूसरे सबसे पुराने अयोध्या विवाद पर देश की सबसे बड़ी अदालत ने ऐतिहासिक फैसला सुनाया था। सुप्रीम कोर्ट ने विवा’दित जमीन का मालिकाना हक रामलला को दिया था। और तीन महीने के अंदर ट्रस्ट बनाकर मंदिर निर्मड का आदेश दिया था। वही मुस्लि’म पक्ष को अयोध्या में 5 एकड़ जमीन देना का राज्य सरकार को आदेश दिया था।

साभार: BBCहिंदी

Leave a comment