VIDEO: एयर स्ट्राइक पर हो रही राजनीति पर भड़के ओवैसी नेताओं से की अपील

वायुसेना द्वारा की गई एयर स्ट्राइक पर चल रही राजनीति थमने का नाम ही नहीं ले रही है. एयर स्ट्राइक को लेकर लगातार एक के बाद एक बयान सामने आ रहे है. सत्ता पक्ष हो या विपक्ष हर कोई अपनी सियासी रोटियां सेकने में लगा हुआ है. बता दें कि जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए आतं$की हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने जवाबी कार्रवाई करते हुए पाकिस्तान के बालाकोट में घुस कर एयरस्ट्राइक को अंजाम दिया है. इसके बाद भारतीय विदेश मंत्रालय ने कई आतं$कियों के इस हमले में मारे जाने की आशंका जताई.

जैसे ही बीजेपी द्वारा इसे चुनावी मुद्दे का रूप दिया जाना शुरू किया गया उसी के साथ ही विपक्ष द्वारा इस एयरस्ट्राइक के सबूतों की मांग की जाने लगी. एयर स्ट्राइक के बाद से ही मा’रने वाले आतं’कियों की संख्या को लेकर भी सियासत की जा रही है. जहां इसे लेकर मीडिया मार’ने वाले आतं’कियों की संख्या 200-300 से लेकर 400 तक बता रही हैं.

Source: Google

वहीं सत्तारूढ़ बीजेपी भी लगातार अपने बयान बदल रही है. बीजेपी के नेता संख्याओं को लेकर अलग अलग बयान दे रहे हैं. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने आतं$कियों की संख्या 250 बताई है, वहीं बीजेपी के केंद्रीय मंत्री राधा मोहन सिंह ने 400 का आंकड़ा बताया.

वहीं इस मामले को लेकर मोदी सरकार के मंत्री वीके सिंह ने तो एक कदम आगे बढ़ कर बयान दिया. वीके सिंह ने कहा कि मैंने रात को 3.30 बजे काले हिट से मच्छरों को मा’रा अब लोग पूछे रहे की कितने मच्छर मा’रे, अब क्या मैं मच्छरों को गिनू.

Source: Google

उन्होंने आगे कहा कि अलगी बार जब सेना जाएगी तो किसी नेता को जहाज के नीचे बांधकर कर भेज देगे. हमले के बाद उसे उतार दिया जाएगा वह गिनती कर लेगा. वहीं दूसरी तरह विपक्ष बार बार एयर स्ट्राइक के सबूत देने पर अड़ा हुआ हैं. ममता बनर्जी, अरविंद्र केजरीवाल, दिग्विजय सिंह, कमलनाथ, कपिल सिब्बल से लेकर कई बड़े नेता सबूतों की मांग कर चुके है.

इसी बीच हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने एक पते की बात कही हैं. ओवैसी ने कहा कि देश की राजनैतिक पार्टियों और राजनेताओं को समझना चाहिए कि वह अपने बयानबाजी से देश की एकता को नुकसान पहुंचा रहे है. उन्हें अपनी राजनीतिक रोटियां सेकना है तो सेके लेकिन हमारी डाइवर्सिटी को कमजोर न करें क्योंकि यही तो पड़ोसी चाहता हैं.