VIDEO: अलीगढ़ स्टेशन पर मॉब लिंचिं’ग, कन्नौज से आए मुस्लि’म परिवार पर किया हम’ला

देश भर में भी’ड़ द्वारा हिंस’क वारदा’तें रुकने का नाम ही नहीं ले रही हैं। आये दिन मुस्लि’म समुदाय को सताने की घटना’एं सामने आती रहती है जिसमे कभी कभी तो ह#त्या तक का मामला सामने आता है| अभी हाल ही में ऐसी ही एक और बारदात सामने आयी है जिसने पूरे मुस्लि’म परिवार पर हम’ला कर दिया| यह ताजा मामला उत्तर प्रदेश के अलगीढ़ रेलवे स्टेशन का है जहां दर्जनों लोगों की भी’ड़ ने अचानक एक मुस्लि’म परिवार पर हम’ला कर दिया। भी’ड़ के इस हमले में दो महिलाएं भी घाय’ल हो गई। इस घट’ना के बाद पूरे इलाक़े में हड़कं’प म’चा हुआ है।

बता दें कि इस घट’ना की जानकारी मिलते ही बड़ी संख्या में अलीगढ मुस्लि’म यूनिवर्सिटी के छात्र मौके पर पहुंच गए और हालात बेहद तनाव पूर्ण हो गए। दरअसल आपको बता दें कि यह पूरा मामला रविवार देर शाम का है, जहां अलीगढ़ रेलवे स्टेश’न पर बिना किसी बात के मारपी’ट से हड़कं’प मच गया। इस हमले के खिलाफ अलीगढ़ मुस्लि’म विश्वविद्यलाय के छात्रों ने जीआरपी थाने का घेराव किया तब देर रात जाकर इस माम’ले में रिपोर्ट दर्ज हुई।

जानकारी के मुताबिक़ रविवार शाम कन्नौज के एक परिवार पर दो दर्ज’न से अधिक लोगों ने हम’ला कर दिया। आरोप है कि महिलाओं के बु’र्का पहने होने और मु’स्लि’म होने की वजह से यह हमला किया गया था। जीआरपी ने घाय’लों को जेएन मेडिकल कालेज में भर्ती कराया है। जीआर’पी के मुताबि’क, एक दर्जन लोगों के खिला’फ मुकदमा दर्ज कर सीसीटीवी फुटेज के आधार पर उनकी शिना’ख्त की जा रही है।

साथ ही बताया जा रहा है कि कन्नौज के घुमा’चाम’ऊ इलाके की रहने वाली अफसाना अपने बेटे शफीक देवर तौफीक, ससुर सहीम, सास हस’रुन निशा और उनकी बेटी निशा के साथ मऊ आनंद विहार साप्ताहि’क ट्रेन से उतर रही थीं। पीड़ित परिवार का आरोप है कि इसी दौरान करीब दो दर्जन लोग आए और उनसे ट्रेन में चढ़ने उतरने को लेकर विवा’द हो गया।

इसके बाद उन्होंने बताया कि इस मामले में विवाद इतना बढ़ा कि उन्होंने परिवार पर हम’ला बोल दिया। इसमें तौफीक और सहीम को चोटें आ गईं। इसके बाद जब महिला’ओं ने ची’खपुका’र मचा’ई तो स्टेशन पर अ’फरातफ’री का माहौल हो गया।

इसी के चलते घाय’ल तौफीक ने बताया कि उन्हें बुरी तर’ह पी’टा गया है, इतना ही नहीं भी’ड़ ने उनकी अ’म्मी, भा’भी और भतीजी को बुरी तरह से ला’त घूं’सों और डं’डों से पी’टा। उन्होंने हमें हमारे मज़हबी पहचान पर टिप्पणी की। साथ ही उन्होंने बताया कि कोई हमें बचाने नही आया। हम यह मान ही नही सकते कि यह अचानक हुआ झगड़ा है। हमें पीटने वाले गालि’यां दे रहे थे। हम यहां इला’ज़ कराने आए थे, यह खुला अत्याचा’र है।

आपको बता दें कि सूचना मिलने पर जीआरपी की टीम जब तक घट’ना स्थल पर पहुंची तब तक हम’ला’वर फरार हो चुके थे। इस घट’ना की सूचना मिलने के बाद एएमयू अस्पताल पहुंचे और हाल चाल जाना। एएम’यू के छात्र संघ के अध्यक्ष सलमान इम्तियाज ने कहा कि जिस तरह से भीड़तंत्र ने मु’स्लि’म समाज के लोगों पर हम’ला किया। इसकी वो निं’दा करते है, अगर इस तरह की हरकतों को नहीं रोका गया तो वो दिन दूर नहीं जब हालात बेह’द खराब हो जाएंगें।

उन्होंने आगे कहा कि हिं’दुत्व के नाम पर यह लोग हिन्दू ध’र्म को बदनाम कर रहे है और अलीगढ़ की गंगा जमुनी तहजीब को बिगाड़ने की कोशिश कर रहे हैं। अलीगढ़ के लोग हरगिज़ ऐसा नहीं होने देंगे। हम उस मुल्क से आते हैं जहां बुर्क़ा टोपी तिलक पगड़ी सबका सम्मान किया जाता है और हर फासिस्ट ताकतों का मुं’ह तो’ड़ जवाब दिया जाता है।

इस घट’ना के बाद एएमयू छात्रों में बढ़ते आक्रो’श को देखते हुए जीआरपी इंस्पेक्टर यशपाल सिंह एएमयू पहुंच गए। उन्होंने छात्रों को समझाते हुए मामले में कार्रवाई का आश्वासन देकर छात्रों को शांत किया। घाय’ल तौफीक की ओर से दो दर्जन अज्ञात हम’लाव’रों के खि’ला’फ तहरी’र दी गई है। इंस्पेक्टर यशपाल सिंह के मुताबिक पीड़ि’त परिवार की ओर से दी गई तहरीर के आधार पर मुकदमा द’र्ज किया गया है।

साभारः #NavJeevanIndia