राहुल गाँधी को में’टली डिस्टर्ब बताने पर, अलका लाम्बा का मनोज तिवारी को करारा जवाब

अभी हाल ही में बीजेपी के सांसद और दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने, कांग्रेस के दिग्गज नेता राहुल गांधी पर एक बयान दिया है. जिसके बाद कांग्रेस पार्टी के कुछ नेताओं को मनोज तिवारी या राहुल गाँधी के लिए, इन शब्दों का प्रयोग करना पसंद नहीं आया. दरअसल मनोज तिवारी ने एक बयान देते हुए राहुल गांधी को मेंट’ली डिस्टर्ब करार दिया है. राहुल गांधी ने भारत को दुनिया की रे’प कैपिटल बताये जाने के जवाब में मनोज तिवारी ने राहुल गांधी को इस वजह से ही मेंट’ल डिस्टर्ब कहा.

बीते दिनों राहुल गांधी का एक बयान आया था, जिसमें उन्होंने भारत को बला’त्कार की राजधानी करार दिया है. मनोज तिवारी ने कहा कि राहुल गांधी अगर चाहते तो भारत को सामान दे सकते थे. लेकिन राहुल गांधी न तो भारत को गौरवान्वित कर सकते हैं और न ही ऐसा होते हुए देख सकते हैं.

Congress Neta Alka Lamba From Delhi

वह बार-बार भारत को नीचा दिखने की कोशिश में लगे रहते हैं, वह ऐसे दिखते हैं जैसे कि वो मेंट’ल डिस्टर्ब हों. तिवारी ने कहा कि राहुल गाँधी ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए गलत शब्दों का इस्तेमाल किया था, और इसके लिए उन्हें अदालत में माफी भी मांगी पड़ी.

इसके बाद कांग्रेस नेता अलका लांबा ने आज एबीपी न्यूज़ का ट्वीट Retweet करते हुए कुछ शब्द लिखे, जिसमें उन्होंने मनोज तिवारी के लिए कुछ इस तरह से लिखा था. ‘भाषा से ही पता चल जाता है, जिनकी दो कौड़ी की औकात नहीं थी, ऐसे लोगों को दिल्ली की जनता ने सर पर बैठा दिया. इन लोगों की तब जुबान नहीं खुलती जब नीतियों के साथ बलात्का’र होते हैं, और जो लोग उसको लेकर सवाल करते हैं. वह लोग इन्हें में’टल लगते हैं. जब इन लोगों से जवाब नहीं देते बनता, तब इस तरह से इन लोगों की बौखलाहट सामने आती है.

आपको बता दें कि यह मामला तब का है, जब राहुल गाँधी वायनाड गए थे. यह सिलसिला तब शुरू हुआ जब राहुल गांधी वायनाड के दौरे पर थे, और वहां पर राहुल गांधी ने एक बयान देते हुए भारत में हो रहे बालात्का’र और महिला सुरक्षा को लेकर एक बयान दिया था.

जिसमें उन्होंने कहा था कि भारत को दुनिया की बला’त्कार की राजधानी के रूप में जाना जाना चाहिए. क्योंकि विदेशी यह सवाल पूछ रहे हैं, कि आखिर भारत अपनी बहन बेटियों को सुरक्षा क्यों नहीं दे पा रहा. साथ ही उन्होंने सेंगर की तरफ इशारा करते हुए भी उसके बारे में कहा.

बीजेपी का एक विधायक है, जिसपर एक महिला के साथ रे’प करने का आरोप है. प्रधानमंत्री तब ट्वीट नहीं करते. गौरतलब है कि बीते कुछ महीनों से हमारे देश में, जिस तरह से महिलाओं और बच्चियों के साथ. उनकी अस्मत से खिलवाड़ हो रहा है. इसको लेकर अभी हमारे देश के कानून में काफी लचर व्यवस्थाएं हैं.

इस मामले में बहुत कुछ, सुधार किया जाना बहुत जरूरी हो गया है. सोशल मीडिया नेटवर्किंग साइट पर भी आमजन इस बात को लेकर काफी गुस्से में है, कि अभी तक बला’त्कार पर दोषि’यों के खिलाफ कोई स’ख्त कानून क्यों नहीं बन पा रहा है.

वहीं अगर देखा जाए कि कोई सख्त’ कानून अगर बन जाता है, तो राजनीति में कई ऐसे चेहरे हैं जिन पर बलात्का’र के मामले पहले से ही दर्ज हैं. ऐसे लोग अभी जनता के नेता बने घूम रहे हैं, क्या ऐसे लोगों को सलाखों के पीछे नहीं होना चाहिए? क्या कानून सिर्फ गरीब के लिए ही है, इन नेताओं के लिए क्यों नहीं?.