और देशों की अपेक्षा अमेरिका में सबसे तेजी से फैल रहा है इस्लाम- रिपोर्ट

इस बात में कोई दो राय नहीं कि पहले भी और आज कल जिस तरह देखने में आता है इस्लाम को आतंकवाद के नाम पर बदनाम किया जा रहा है| गैर मुस्लिम लोगों के दिलों में इस कदर ज़हर भरा जा रहा है कि वो एक मुसलमान से दूरी बनाये रखें| खैर इस्लाम के खिलाफ तो लोग हुज़ूर के ज़माने से ही रहे हैं और आज तक हैं| क्या ये हैरत की बात नहीं कि 313 की तादाद से आज माशाल्लाह दुनियाभर में मुसलमानों की संख्या दुसरे नंबर पर है| और ये आने वाले वक़्त में नंबर 1 पर हो जायेगी|

अगर वाकई में इस्लाम नफरत का मज़हब होता तो क्या लोग इस तरह और इतनी बड़ी तादाद में इस्लाम अपनाते? लेकिन सवाल यह है कि अब ऐसे में इस्लाम की हक़ीक़त भरी तस्वीर लोगों के सामने आये कैसे। क्योकि मुसलमानो के अलावा और जो दीगर कौम दुनिया के अंदर मौजूद है उन तक इस्लाम सिर्फ आतंकवाद के रूप में सामने आया है|

American Muslim

हाल ही में इस्लाम के लिए और मानव जाती के लिए खतरा बन चुके आईएसआईएस जैसे आतंकवादी संघठन ने अपनी घटनाओं को अंजाम देते हुए वीडियो इंटरनेट के जरिये लोगों के सामने आई है। तो कही न कही इस्लाम के नाम पर एक गन्दी तस्वीर पूरी दुनिया के लोगों के सामने आई|

American Muslim are

कुछ सालों पहले अमेरिका में हुए वर्ल्डट्रेड सेंटर पर हुए एक आतंकवादी हमले ने पूरे अमेरिका को दहला कर रख दिया। इसके बाद प्रिंट मीडिया, इलैक्ट्रॉनिक मिडिया, सोशल मीडिया के द्वारा आतंकबाद को इस्लाम के रूप में दिखाया गया। इसके बाद भी इस्लाम अपनी तेजी से फैल रहा है|

The American

लैटिन भाषा का उपयोग करने वाले लोगों को इस्लाम अपनाते हुए ज्यादा देखा जा रहा है। जबकि जिस पर देश के जाने माने इतिहासकार राजेंद्र नारायणलाल में अपने एक आर्टिकल में लिखा था की इस्लाम को बदनाम करने का यह नतीजा है। जो इस्लाम के विस्तार में तेजी आ रही है। उन्होंने कहा की इस्लाम का जितना दुष्प्रचार किया गया इस्लाम उतना है फैला है|

The American Muslim

इस्लाम के दुष्प्रचार का ही यह नतीजा है की लोगों में इस्लाम को जानने की रूचि बड़ी है।इस्लाम को जितना बदनाम किया गया है शायद किसी और धर्म को बदनाम किया जाता तो शायद उस धर्म का अंत हो जाता। अमेरिका में वर्ल्डट्रेड सेंटर पर हमले के बाद अमेरिकी लोग इस्लाम को जानने के लिए मजबूर हो गए|

अमेरिका में 42 लाख मुस्लिम है जबकि 5 करोड़ 43 लाख लैटिन है, इसमें से 3 लाख मुस्लिम है। एक रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका में धर्म परिवर्तन के मामलों में 92% लैटिन है। और एक चौका देने वाली बात यह है। इस्लाम को स्वीकारने वालों में महिलाओं की अधिकता बहुत ज्यादा है। जानकारों का कहना यह है की इस्लाम जल्द है अमेरिका का दूसरा सबसे बड़ा धर्म हो जायेगा|

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *