भेदभाव के शिकार हुए दो मुस्लि'म कर्मचारी, अमेरिकी कम्पनी करेगी 275000 डॉलर का भुगतान

भेदभाव के शिकार हुए दो मुस्लि’म कर्मचारी, अमेरिकी कम्पनी करेगी 275000 डॉलर का भुगतान

आज दौर में मुसलामा’नों के साथ हो रहे भेदभाव दिन व दिन बढ़ते जा रहे हैं| भारत जैसे देश में आये दिन मुसलमा’नों को धर्म के नाम पर भा’षा के नाम पर जाती पर परेशान किया जाता है सताया जाता है लेकिन आज एक ऐसा भी देश है जहां सिर्फ मुसलमा’नों के साथ भेदभाव को लेकर अपना पश्चताव के लिए भुक्तान कर रहा है| जी हाँ हम बात कर रहे हैं अमेरिका की ह्यूस्टन स्थित अग्रणी बहुराष्ट्रीय कंपनी हैलीबर्टन की जहां कार्यस्थल पर धार्मि’क मान्यताओं के आधार पर भेदभाव के शिकार हुए भारतीय तथा सीरियाई मूल के अपने दो मुस्लि’म कर्मचारियों को 2,75,000 डॉलर का भुगतान करने का एलान किया है|

जानकारी के मुताबिक़ दरअसल अमेरिका के रोजगार के समान अवसर संबंधी आयोग EEOC ने इन दो कर्मचारियों के साथ धार्मि’क भेदभाव को लेकर कंपनी पर मुकदमा दायर किया था| इस मुकदमे के मुताबिक़, भारतीय मूल के मीर अली और सीरियाई मूल के हसन स्नोबार के साथ कंपनी में गलत बर्ता’व हुआ था|

इसी वजह से EEOC ने प्री लिटिगेशन सेटलमेंट तक पहुंचने के पहले प्रयास के बाद टेक्सास के डलास डिवीजन के यूएस डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में मुकदमा दायर किया था| साथ ही आयोग ने कहा कि जब स्नोबार ने इससे परेशान होकर प्रबंधन तथा मानव संसाधन विभाग के समक्ष शिकायत दर्ज की तो उसे नौकरी से निकाल दिया गया|

बता दें कि मुकदमे में कहा गया है कि स्नोबार ने ऑइल फिल्ड में असिसटेंड ऑपेरेटर के लिए अगस्त 2012 में कम्पनी के साथ काम करना शुरू किया था| जिसमे उसे सहकर्मी अप’मानज’नक नाम से बुलाते थे और आ$तंकवा’दी सं’गठ’न आई’एसआ’ईए’स से जोड़ते थे| अली को भी कुछ इसी तरह के माहौ’ल से गुजरना पड़ा था|

जानकारी के मुताबिक़ आपको बता दें कि ह्यूस्ट’न स्थित इस कम्पनी में 55 हजार कर्मचारी काम करते हैं| वहीँ दूसरी ओर अब इस मुक़दमे के बाद कंपनी, प्रबंधकीय और मानव संसाधन कर्मचारियों को राष्ट्रीय मूल और धार्मि’क भेदभा’व पर प्रशिक्षण प्रदान करने पर सहम’त हुई है|

साथ ही कर्मचारी अधिकारों की सूचना पोस्ट करने और ईईओसी को राष्ट्रीय मूल और धार्मि’क भेदभाव की शिकायतों की रिपोर्ट देने पर सहमत हुई है| इसके साथ ही कंपनी होनी गलती के हर्जा’ने के तौर पर दोनों को 2,75,000 डॉल’र देने का एलान किया है|

साभारः #News18InHindi

Leave a comment