चीन में मुसलमानों पर अत्याचा’र के खिलाफ़, अमेरीकी लड़की का वीडियो दुनियाभर में वायरल हुआ

बीते पिछले कई महीनों में चीन के मुस्लि’मों पर अत्याचा’र की तमाम खबरें आती रहीं हैं. यहां तक कि उनको बीते साल रमजान के माह में भी, काफी परेशान किया गया. चीन में उइगर मुसलमा’नों की हालत दुनिया से छिपी नहीं है. पिछले साल भी बीबीसी ने चीन के जिन शिनजियांग प्रांत में, मुसलमा’नों की नजरबंदी को लेकर रिपोर्टिंग की थी. जिसको दुनिया भर के लोगों ने देखा और अपनी प्रतिक्रिया भी दीं.

यह बात अब किसी से छुपी नहीं है, कि किस तरह से चीन ने उनको नजर बंद करके कैंप में छुपा के रखा हुआ है. इतना ही नहीं छोटे बच्चों तक को उनके मां बाप से जुदा कर दिया गया, जिसका खुलासा तब हुआ जब इंटरनेट पर एक बच्चे का वीडियो वायरल हुआ.

उस बच्चे के पिता ने उसको विडियो के ज़रिये पहचाना, कि वो उनका खोया हुआ बीटा है, जो 2 साल पहले चीनी अधिकारियों ने उसकी माँ से ले लिया था. वे जबरन सबी बच्चों को डिटेंशन कैंप में उनके माँ-बाप से दूर रखे हुए हैं.

जिन बच्चों को वहां रखा हुआ है, वे उन्हें किसी से मिलने नहीं देते. और उन्होंने बताया कि मेरा बच्चा हमारी पारंपरिक भाषा ना बोलते हुए, चीनी भाषा में बात कर रहा था. समय-समय पर चीन के मुसलमा’नों की खबरें सोशल मीडिया के जरिए भी वायरल होती रहती हैं.

यह तो सब जानते हैं कि चीन एक ऐसा देश है, जिसने अमेरिका तक को डरा कर रखा हुआ है. लेकिन अभी हाल ही में इंटरनेट पर एक अमेरिका की लड़की का वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है. यह लड़की अमेरिका की है, जिसने चीन के मुसलमा’नों पर हो रहे अत्याचा’र को लेकर आवाज उठाई हैं.

उसका यह विडियो TikTok के ज़रिये सोशल मीडिया पर डाल दिया और जैसे ही इस वीडियो पर लोगों की नजर पड़ी तो यह देखते ही देखते दुनिया भर में वायरल हो गया. फ़िलहाल TikTok ने इस लड़की का विडियो वायरल होने के बाद उसका अकाउंट बेन कर दिया.

भारतीय हिंदी न्यूज़ की बड़ी वेबसाइट ‘आजतक’ ने भी अपनी वीडियो के जरिए इस स्टोरी को दिखाया है. इस जारी किये गए वीडियो में वह लड़की बता रही है, कि जो लोग सूअर के मांस से नफरत करते हैं, उन लोगों को सूअर का मांस खाने के लिए मजबूर किया जा रहा है.

चीन में उनको धर्म परिवर्तन के लिए भी मजबूर किया जा रहा है. वीडियो वायरल होने के बाद इस लड़की को टिकटॉक ने बैन कर दिया, इसके बाद TikTok ने इस वीडियो पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा, कि यूजर के अकाउंट और उसकी डिवाइस पर इसलिए वेल लगाया गया क्योंकि उसने ओसामा बिन लादेन का एक वीडियो पोस्ट किया था.

हमारे प्लेटफॉर्म पर टिक टॉक पर आतं’की मामलों से जुड़े कंटेंट डालने की अनुमति नहीं है. वीडियो बनाने वाली लड़की का नाम है ‘फिरोजा’ है और यह न्यूजर्सी में हाई स्कूल की छात्रा है. लड़की का कहना यह है कि टिकटोक ने उसका अकाउंट इसलिए बेन किया क्योंकि उन्होंने चीनी मुसलमा’नों के लिए हक में आवाज उठाई.

आपकी जानकारी के लिए एक बार फिर बता दें कि फिलहाल चीन में 10 लाख से भी ज्यादा लोग उइगर मुसलमा’न शिविरों में हैं. एक दस्तावेज के जरिए ये बात पता चली है कि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने मुसलमा’नों पर अत्याचा’र करने के लिए बिल्कुल खुली छूट दे रखी है.