लॉकडाउन के बीच दूध लेने निकले युवक की पुलिस ने की थी पिटाई घर आकर हुई मौत

हावाड़ा: कोरोना वायरस की महामारी के संक्रमण को रोकने के लिए दुनिया भर में प्रयास किये जा रहे है. वही भारत में इस महामारी को रोकने के लिए 21 दिनों का लॉकडाउन किया गया है। कई इलाकों से ऐसी खबरें आ रही हैं कि लॉकडाउन का पालन न कराने पर पुलिस भी सख्ती बरत रही है। ऐसा ही एक मामला पश्चिम बंगाल से सामने आया है, जहां पुलिस के द्वारा की गई पिटाई के बाद एक 32 वर्षीय युवक की मौत हो गई। यह घटना राज्य के हावड़ा की है।

हिंदी वन इंडिया की खबर के अनुसार पश्चिम बंगाल के हावाड़ा शहर में 32 वर्षीय व्यक्ति की मृत्‍यु हो गई हैं। उसके परिवार का आरोप हैं कि बुधवार को तालाबंदी के दौरान युवक दूध खरीदने के लिए बाहर गया था इस दौरान पुलिस ने उसे बेरहमी से पीटा था। बाद में पिटाई के कारण उसकी मौत हो गई।

परिवार का कहना है कि पुलिस द्वारा की गई पिटाई के कारण उसको कई घंभीर चोटों आई जिससे उनकी मृत्यु हुई बता दें मरने वाले व्‍यक्ति की पहचान हावड़ा निवासी लाल स्वामी के रूप में की गई है, जो दूध खरीदने के लिए बुधवार को अपने घर से निकला था।

वही मृतक की पत्नी का आरोप है पुलिस सड़क पर एकत्र लोगों की भीड़ को हटाने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया उसी दौरान मेरे पति की भी पुलिस ने लाठियों से पिटाई की। हालाँकि पीड़ित को स्थानीय अस्पताल ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया।

गौरतलब है की पश्चिम बंगाल में अब तक 10 कोरोनो वायरस मामले सामने आए और 1 मौत दर्ज की गई है। पिछले दिन पश्चिम बंगाल में 66 वर्षीय व्यक्ति कोरोना पॉजटिव पाया गया हैं। ये पश्चिम बंगाल का 10 वां मामला है।

आपको बता दें कोलकाता के इस 10 वें कोरोना पॉजटिव कि न ही विदेश से आया है और न ही किसी दूसरे राज्य की ट्रेवेल हिस्‍ट्री है। बताया जा रहा है कि उसने पिछले दिनों मिदनापुर में एक शादी में शिरकत की थी और आशंका जताई जा रही है।

इस दौरान वो वहीं किसी कोरोनवायरस से संक्रमित किसी व्यक्ति के संपर्क में आए हों। अभी एक निजी अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में उनका इलाज चल रहा है और उनके परिवार को पुलिस सुरक्षा के तहत घर में रखा गया है।