मोहम्मद शमी फँसे मुश्किल में, शमी के खिलाफ जारी हुआ गिरफ्तारी वारंट, टीम के साथ वेस्टइंडीज दौरे पर हैं, जानिए पूरा मामला

क्रिकेट की दुनिया में अपनी तेज़ रफ़्तार और तेज़ गेंदबाज़ी के लिए पहचाने जाने वाले मोहम्मद शमी अपने करियर को लेकर भारतीय क्रिकेट टीम में अपने कारनामें बता रहे हैं| 2019 के वर्ल्ड कप में लगातार 3 हैट्रिक ले कर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने वाले मोहम्मद शमी अक्सर सुर्ख़ियों में आते रहते हैं लेकिन अभी हाल ही में खबर मिली है कि पश्चिम बंगाल की अलीपुर अदालत ने सोमवार को भारतीय क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी और उनके भाई हासिद अहमद पर उनकी पत्नी हसीन जहां द्वारा दर्ज कराए गए कथित घरेलू हिं’सा के मामले में गिरफ्तारी वारंट जारी किया है।

बता दें कि मोहम्मद शमी की पत्नी हसीन जहां ने घरेलू हिं$सा के मामले में शमी और उनके भाई के खिला’फ केस दायर किया था जिसके चलते कोर्ट ने शमी को 15 दिनों के अंदर आत्मसमर्पण करने को कहा है। समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक़ पश्चिम बंगाल की अलीपुर की अदालत ने मोहम्मद शमी की पत्नी हसीन जहां द्वारा दायर किए गए घरेलू हिं’सा के मामले में गिरफ्तारी वारं’ट जारी किया है।

मोहम्मद शमी और उनके भाई हासिद अहमद को अदालत ने 15 दिन के अंदर सरेंडर करने को कहा है। जानकारी के अनुसार शमी फिलहाल भारतीय क्रिकेट टीम के साथ वेस्टइंडीज के दौरे पर हैं और 4 सितंबर को घर के लिए रवाना होने वाले हैं।

समाचार एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक क्रिकेटर मोहम्मद शमी के वकील शेख सलीम रहमान ने कहा कि यह देखते हुए कि तेज गेंदबाज राष्ट्रीय कर्तव्य निभाने के लिए विदेश में हैं, अलीपुर के अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट एसीजेएम सुब्रत मुखर्जी ने कहा कि देश लौटने के 15 दिन तक उन पर वारंट को लागू नहीं किया जाएगा।

अदालत ने निर्देश दिया है कि भारत लौटने के 15 दिनों के अंदर शमी को आत्मसमर्पण करना होगा, जिसमें विफल रहने पर उनके खिला’फ गिरफ्तारी का वारंट जारी कर दिया जाएगा। इसके बाद मोहम्मद शमी की पत्नी हसीन जहां के वकील अनिर्बान गुहा ठाकुरता ने कहा कि वह अदालत इसलिए गए क्योंकि शमी कानूनी औपचारिकताओं का जवाब नहीं दे रहे थे।

जहां का प्रतिनिधित्व करने वाले वकील अनिर्बान गुहा ठाकुरता ने बताया कि शमी के भाई हसीब अहमद के खिलाफ भी एसीजेएम ने वारंट जारी किया है। जानकारी के लिए बता दें कि तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी पर उनकी पत्नी हसीन जहां ने पिछले साल दहेज उत्पीड़न शारीरि’क उत्पीड़न मैच फिक्सिंग जैसे कई संगीन आरोप लगाए थे। हालांकि बीसीसीआई ने जांच के बाद फिक्सिं’ग के आरोपों से उन्हें क्लीन चिट दे दी थी।