बजरंग दल ने बीजेपी नेता के स्कूल में छोटे बच्चों को दी बं’दूक चलाने की ट्रेनिंग, बाटे ह’थियार

मुंबई से लगे हुए मीरा रोड में भारतीय जनता पार्टी के एक नेता पर स्कूल में बंदू’क चलाने का प्रशिक्षण देने का आरोप लगा है. इतना ही नहीं आरोपों के अनुसार बजरंग डाल वाले छोटे बच्चों को हथियार चलाना भी सिखा रहे है. सादिक बादशाह नाम के एक शख्स ने पुलिस थाने में दी एक शिकायत में यह सनसनीखेज दावे किये हैं.

सादिक ने कहा कि जब देश मे पुलिस और सेना मौजूद है तो फिर सेल्फ डिफेन्स प्रशिक्षण की क्या जरूरत है? उन्होंने दावा करते हुए कहा कि यह युवकों के मन में एक विशेष धर्म के प्रति नफरत पैदा करने की कोशिशें हैं. वहीं बजरंग दल संयोजक संदीप भगत ने आरोपों को निराधार करार दिया हैं.

Image Source: Google

भगत का कहना है कि हर साल 25 मई से 1 जून तक बजरंग दल के कार्यकर्ताओं का प्रशिक्षण शिविर लगता रहा है. इसमें दौड़ने, कूदने, रैपलिंग जैसे खेल सिखाये जाते हैं इसके साथ ही योग भी सिखाया जाता है. भगत ने शिविर के दौरान किसी भी तरह के बंदूक चलाने के प्रशिक्षण से साफ इंकार किया हैं.

हालांकि एक तस्वीर में प्रशिक्षण शिविर में शामिल होने के लिए आए युवकों में से एक के हाथ में कपड़े से बने हुए कवर में एक बंदूक थी. अभी तक यह साफ नहीं हो सका है कि वो बंदूक थी या फिर एयर गन. हालांकि सादिक बादशाह ने अपनी शिकायत में प्रशांत गुप्ता नाम के एक लड़के की एक तस्वीर भी संलग्न की थी.

तस्वीर में यह लड़का बंदूक और आग के बीच प्रशिक्षण लेते हुए नजर आ रहा था और इसे उसने अपने फेसबुक एकाउंट में पोस्ट की है. लेकिन बाद में पता चला है कि वो तस्वीर पुरानी है और किसी दूसरे जगह की है. इसी बीच बीजेपी के स्थानीय विधायक और स्कूल के मालिक नरेंद्र मेहता ने एनडीटीवी से बातचीत में बताया.

उन्होंने बताया कि यह निजी स्कूल है और जहां पर अलग-अलग सामाजिक संस्थाएं और पार्टियां कार्यक्रम कराती रहती हैं. बजरंग दल का भी प्रशिक्षण शिविर लगाया गया था लेकिन किसी भी तरह के बंदूक का प्रशिक्षण नहीं दिया गया.

बीजेपी विधायक नरेंद्र मेहता ने साफ करते हुए कहा कि किया कि एक अखबार में आग के बीच कूदते लड़के और बंदूक चलाते हुए युवकों की तस्वीर प्रकाशित की गई जो उनके स्कूल की नहीं है. गलत तस्वीर प्रकाशित करके उनके स्कूल को बदनाम किया जा रहा है.