मुस्लि’म छात्र ने पूछा- कितना पढ़े लिखे हो, केंद्रीय मंत्री ने दिया जवाब- बोरिया बिस्तर बांधकर वापस भेज दूंगा तुम्हारे देश

कोलकाता: नागरिकता कानून का विरोध करने पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के बेलगाम मंत्री बाबुल सुप्रीयो (Babul Supriyo) ने सोशल मीडिया पर बहस के दौरान छात्र को धम’की देते हुए कहा कि ‘बोरिया बिस्तर समेटकर वापस भेज दूंगा तुम्हारे देश। दरअसल 19 साल के मुस्लि’म छात्र और केंद्रीय मंत्री के बीच बहसबाजी का दौर उस वक्त शुरू हुआ जब केंद्रीय मंत्री ने 26 दिसंबर को जाधवपुर की छात्रा द्वारा नागरिकता कानून की प्रति फाड़ने की निंदा करते हुए उन्होंने एक फेसबुक पोस्ट शेयर किया।

सुप्रीयो के इस पोस्ट पर अगले दिन कमेंट करते हुए रहमान नाम के एक छात्र ने केंद्रीय मंत्री और पश्चिम बंगाल पार्टी अध्यक्ष दिलीप घोष का शिक्षा प्रमाण पत्र मांग लिया। इस बात पर केंद्रीय मंत्री ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि मुस्तफिज्जुर रहमान पहले मुझे तुम्हारा बोरिया बिस्तर समेटकर तुम्हारे देश भेजने दो इसके बाद पोस्टकार्ड के जरिए तुम्हें रिप्लाई करूंगा।

दरअसल, पश्चिम बंगाल के बीरभूम के रहने वाले छात्र मुस्ताफिजुर रहमान ने बाबुल सुप्रियो की पोस्ट पर कमेंट करते हुए लिखा, बाबुल दा, आप और आपके गुरु बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष कितना पढ़े लिखे हैं, जो गाय में से सोना निकालते हैं. रहमान को जवाब देते हुए केंद्रीय मंत्री ने बांग्ला भाषा में लिखा, रहमान पहले मैं तुम्हें तुम्हारे देश भेज दूं और फिर पोस्टकार्ड के जरिए इसका जवाब दूंगा.

वही केंद्रीय मंत्री की प्रतिक्रिया देखने के बाद रहमान ने शुक्रवार को कहा कि इस तरह के कमेंट करने पर केंद्रीय मंत्री को सार्वजनिक तौर पर माफी मांगनी चाहिए। लेकिन रहमान की इस प्रतिक्रिया के बाद केंद्रीय मंत्री की भी प्रतिक्रिया आई। उन्होंने रहमान को आदतन ऐसा करने वाला बताते हुए कहा कि उन्होंने ऐसा कुछ भी नहीं कहा है जिसके लिए उन्हें मूर्खों से माफी मांगनी पड़े।

विवाद बढ़ने पर बाबुल सुप्रियो ने कहा कि उनकी प्रतिक्रिया से छात्र के धर्म का कोई लेना-देना नहीं है। वो मुस्ताफिजुर रहमान मुझे कुछ भी कह सकता है जो वो चाहता है. बेवकूफ लोग मेरे कमेंट को नहीं समझ पाएंगे. उसका हिंदुओं या मुस्लि’मों से कुछ लेना-देना नहीं है।

बता दें रहमान वीरभूम जिले में स्थित इलामाबाजार के एक कॉलेज में रसायनशास्त्र के छात्र हैं। रहमान ने साफ किया है कि ‘मेरे पास इस बात के पर्याप्त सबूत हैं कि मैं भारतीय हूं। लेकिन आप नहीं जानते हैं कि बंगालियों का आदर कैसे किया जाता है।