102 दिनों से जेल में बंद डॉक्टर कफील खान को लेकर आई बड़ी खबर, अब तीन महीने के और बढ़ाया...

102 दिनों से जेल में बंद डॉक्टर कफील खान को लेकर आई बड़ी खबर, अब तीन महीने के और बढ़ाया…

गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में साल 2017 में सुर्खियों में डॉक्टर कफील खान की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. बता दें अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में बयान देने के आरोप में गोरखपुर के डॉ. खान को गिरफ्तार कर लिया गया है. उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स ने कफील को मुंबई से गिरफ्तार किया. डॉक्टर कफील के खिलाफ 13 दिसंबर को सिविल लाइंस पुलिस स्टेशन में आईपीसी की धारा 153-ए के तहत एक FIR दर्ज की गई थी।

नागरिकता कानून का विरोध करने के मामले में पिछले102 दिनों से जेल में बंद डॉक्टर कफील खान की मुश्किलें बढ़ती नज़र आ रही हैं. गृह मंत्रालय ने उनपर लगी रासुका को तीन महीने के लिए बढ़ा दिया है. खान पर लगे एनएसए की अवधि 12 मई को खत्म हो रही थी लेकिन अब तीन महीनों की बढ़ोतरी के बाद वह 12 अगस्त तक बाहर नहीं आ सकेंगे।

डॉ. कफील के वकील इरफान गाजी ने कहा कि उन्होंने खान की अवै’ध हिरासत वाले यूपी अडवाइजरी बोर्ड ऑर्डर को चुनौती दी है। इस मामले में 16 मई की तारीख तय की गई है. डॉ. खान के बड़े भाई अदील अहमद खान कहते हैं, लॉकडाउन के दौरान कफील किस तरह से शांति और सां’प्रदा’यिक सौहार्द बिगाड़ेगा?

उसे सिर्फ राजनीतिक कारणों के चलते निशाने पर लिया गया है. अदील ने आरोप लगाया कि डॉ. कफील को कार्डियक संबंधी दिक्कतें हैं लेकिन कई बार निवेदन के बावजूद उन्हें सही इलाज नहीं दिया जा रहा है. यही नहीं, उन्होंने यह भी कहा कि आगरा और मथुरा की जेलों में को’रो’ना सं’क्रमि’त कैदी पाए गए हैं और जेलों में ज्यादा भी’ड़ होने की वजह से सं’क्रम’ण के मामले भी बढ़ने की संभावना है।

डॉ. खान के ऊपर आईपीसी की धारा 153-ए के तहत सिविल लाइंस पुलिस स्टेशन में दर्ज की गई थी। उनके खिलाफ दर्ज शिकायत में कहा गया था कि छात्रों को संबोधित करने के दौरान खान ने बिना नाम लिए कहा कि मोटाभाई सबको हिंदू या मुस्लिम बनना सिखा रहे हैं लेकिन इंसान बनना नहीं।

उन्होंने आगे कहा कि जब से आरएसएस का अ’स्ति’त्व हुआ है, उन्हें संविधान में भरोसा नहीं रह गया खान ने कहा कि CAA मुस्लिमों को सेकंड क्लास सिटिजन बनाता है और एनआरसी लागू होने के साथ ही लोगों को परेशान किया जाएगा।

Leave a comment