तेलंगाना विधानसभा में AIMIM के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने छोटे भाई अकबरुद्दीन ओवैसी को सौंपी बड़ी ज़िम्मेदारी

नई दिल्ली: तेलंगाना के विधानसभा चुनाव में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के चीफ असदुद्दीन ओवैसी के भाई और पार्टी के फायरब्रांड नेता अकबरुद्दीन ने बड़ी जीत हासिल की है. अकबरुद्दीन, तेलंगाना में चंद्रायनगुट्टा विधानसभा सीट से उम्मीदवार थे अकबरुद्दीन, 1999 से लगातार चंद्रायनगुट्टा विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं. इस बार यहां चार उम्मीदवारों के बीच कड़ी टक्कर थी. यहां बीजेपी ने शहजादी सैयद, कांग्रेस ने ईसा बिन ओबैद मिस्री और टीआरएस ने सीताराम रेड्डी को मैदान में उतारा था।

AIMIM के फायरब्रांड नेता अकबरुद्दीन को विधानसभा चुनाव में शानदार कामयाबी के बाद अब तेलंगाना विधानसभा में अपने नेता का भी चयन किया है,सदन में नेता के रूप में अकबरुद्दीन ओवैसी को पार्टी ने फ्लोर लीडर के रूप में चुना है। ऑल इंडिया मजलिस ऐ इत्तेहादुल मुस्लिमीन के मुख्यालय दारुल सलाम पर पार्टी के मुख्या बैरिस्टर असदउद्दीन ओवैसी के नेतृत्व में अकबरुद्दीन ओवैसी को फ्लोर लीडर के रूप में चयनित किया गया है।

Hyderabad: AIMIM leader Akbaruddin Owaisi during a roadshow ahead of December 7 Telangana Assembly elections in Hyderabad’s Nampally, on Dec 2, 2018. (Photo: IANS)

अकबरुद्दीन ओवैसी ने इस विधानसभा क्षेत्र से लगातार पांचवी बार जीत दर्ज की है. वो 1999 से लगातार इस सीट से चुनाव जीतते आ रहे हैं. हाल के चुनाव परिणामों में सत्तारूढ़ टीआरएस ने कुल 119 सीटों में से 88 जीतकर अपनी सत्ता बरकरार रखी, जबकि कांग्रेस ने 19 सीटें और एआईएमआईएम 7 सीटें जीतीं।

ऑल इंडिया मजलिस ऐ इत्तेहादुल मुस्लिमीन के फायरब्रांड लीडर अकबरुद्दीन ओवैसी ने पांचवी बार ऐतिहासिक जीत दर्ज कर 80264 वोट से बीजेपी की शहज़ादी सैय्यद को हराया है, अकबरुद्दीन को 95339 मिले हैं तथा फातिमा सैय्यद को 15075 वोट मिले हैं।

अकबरुद्दीन ओवैसी को देशभर में उनके जोशीले बयानों की वजहें से जाना जाता है और पसन्द किया जाता है, पूरे देश की मीडिया इस विधानसभा के चुनावी परिणाम पर टिकटिकी लगाये हुए थी,पांच राज्यों के चुनावी परिणाम में अकबरुद्दीन सबसे पहले जीतने वाले प्रत्याशी थे।

तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के प्रमुख के. चंद्रशेखर राव (केसीआर) ने 13 दिसंबर को दूसरी बार राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली. प्रदेश के राज्यपाल ई.एस.एल नरसिम्हन ने उन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई।