बकरीद पर कुर्बानी के जानवर को लेकर मुख्यमंत्री का बड़ा फरमान जारी…. अब पुलिस को….

नई दिल्ली: ईद उल अज़हा बकरीद का चाँद दिखाई देने के बाद अब कुर्बानी के जानवरों की खरीद फरोख्त का कारोबार शुरू हो गया है ऐसे में जानवरों को लाने ले जाने के समय घटनाएं हो जाती है। जिसको देखते हुए कांग्रेस विधायक तनवीर सैत ने कर्नाटक के मु्ख्यमंत्री येदियुरप्पा को पत्र लिखकर बकरीद के चलते पुलिस सुरक्षा की मांग की है. पत्र में कहा गया है की बकरीद के चलते जानवरों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाया जाएगा. ऐसे में पुलिस सुरक्षा मुहैया कराई जाए।

वही काँग्रेस विधायक तनवीर के पत्र का जवाब देते हुए कर्नाटक के मु्ख्यमंत्री येदियुरप्पा ने लिखा, हम त्यौहार के लिए पूर समर्थन प्रदान करते हैं और पुलिस सुरक्षा देने का काम करेगी. अब बकरीद के मौके पर पुलिस सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी। प्रदेश भर के सभी अधिकारियो को एक संदेश देते हुए येदियुरप्पाने कहा की बकरीद के मौके पर किसी भी तरह की घटना को बर्दास्त नहीं किया जायेगा इसलिए पुलिस प्रसाशन सतर्क रहे।

Image Source: Google

आपको बता दें कर्नाटक में सत्ता की कमान संभालते ही मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा सरकार विपक्ष की आलोचना के शिकार हो गए थे. येदियुरप्पा ने कर्नाटक सरकार के कन्नड़ और संस्कृति विभाग को टीपू सुल्तान जयंती न मनाने का आदेश जारी किया था. यह फैसला कैबिनेट बैठक के दौरान लिया गया था. विपक्ष ने इस मुद्दे पर येदियुरप्पा को घेर लिया था।

वही बीजेपी विधायक बोपैया ने मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को चिट्ठी लिख कर राज्य में टीपू जयंती के जश्न पर रोक लगाने की मांग की थी. इससे पहले कर्नाटक में जब कांग्रेस-जेडीएस की सरकार थी तो ये समारोह काफी धूमधाम से मनाया जाता था।

बता दें कि राज्य में टीपू जयंती का मुद्दा पहले से गरम रहा है और बीजेपी अक्सर इसका विरोध करती रही है. 18वीं सदी के मैसूर के शासक टीपू सुल्तान की जयंती हर साल 10 नवंबर को मनाई जाती है लेकिन अब जब राज्य में बीजेपी की सरकार आ गई तो इस पर रोक का निर्णय लिया गया है।