इंडियन यूनियन मुस्लि’म लीग का ऐलान, गृहमंत्री अमित शाह के खिलाफ बनाएंगे काली दीवार

नई दिल्लीः नागरिकता संशोधन कानून CAA और नेशनल रजिस्टर ऑफ़ सिटिज़न्स NRC के खिलाफ देश भर में विरोध प्रदर्शन जारी है। कई जगहों पर हिंसक प्रदर्शनो के बाद हजारो लोगो को गिरफ्तार किया गया. इस कानून को लेकर उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा हिंसक प्रदर्शन हुए हैं। और इन हिंसक प्रदर्शनों को हवा देने और लोगों को भड़काने में पुलिस ने भी कोई कसर बाकी नहीं रखी।

वही अब नागरिकता संशोधन कानून का विरोध जताने के लिए इंडियन यूनियन मुस्लि’म लीग (IUML) की यूथ विंग ने 35 किमी लंबी लोगों से बनी ‘काली’ दीवार खड़ा करने का फैसला किया है, आपको बता दें कि इंडियन यूनियन मुस्लि’म लीग ने यह योजना गृहमंत्री अमित शाह के 15 जनवरी को कोझीकोड के दौरे को लेकर किया गया है।

नागरिकता कानून को लेकर दुबारा से प्रदर्शन होने लगे हैं

दरअसल, गृहमंत्री अमित शाह के 15 जनवरी को केरल के कोझीकोड के दौरे के दौरान सीएए के समर्थन में एक रैली को संबोधित कर सकते है। इसी को लेकर मुस्लि’म यूथ लीग ने सोमवार (6 जनवरी) को यह घोषणा की कि वह अमित शाह के सीएए के समर्थन वाली रैली के विरोध में वेस्ट हिल के हैलिपैड से कालीकट अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे तक एक लाख लोग काला कपड़ा पहनकर दीवार बनाएंगे।

आपको बता दें मुस्लि’म यूथ लीग ने काली दीवार के उपर स्वामी विवेकानंद के प्रसिद्ध 1893 शिकागो में दिए भाषण को छापने और 12 जनवरी को भारतीय दार्शनिक की जयंती पर सार्वजनिक स्थानों पर वितरित करने की भी योजना बनाई है। जिसको लेकर तैयारियां शुरू कर दी है।

वही मुस्लि’म यूथ लीग के महासचिव पीके फिरोस ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि अमित शाह के नियंत्रण और आरएसएस के पदाधिकारियों के अधीन रह कर पुलिस नागरिकता कानून का विरोध करने वालों के खिलाफ हिं’सा कर रही है।

फिरोस ने आरोप लगाया कि गृह मंत्री अमित शाह आरएसएस के नेताओं और कार्यकर्ता गुजरात में 2002 में दं’गे के मॉडल पर देश भर मे हिं’सा शुरू करने के लिए कह रहे हैं। उन्होंने कहा कि जेएनयू छात्रों के खिलाफ रविवार (5 जनवरी) रात नकबपोश भी’ड़ द्वारा की गई हिं’सा इसका ताजा सबूत है।