धारा 370 पर पीएम मोदी की सफा’ई और कश्मीरियों को ईद की बधाई के बीच बड़ा ऐलान

नई दिल्लीः जम्मू-कश्मीर राज्य के विभाजन और अनुच्छ’द 370 पर मोदी सरकार के फैसले के बाद घाटी में किसी भी तरह की हिं’सा को रोकने के लिए सरकार ने राज्य में सुरक्षा के क’ड़े इंतजा’म किए हैं। हलाकि राज्य में हिं’सा की एक भी खबर अब तक सामने नहीं आई है. जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह ने इंडिया टुडे से बात करते हुए कहा कि कश्मीर घाटी में किसी भी हिं’सा की खबर गलत है. दक्षिण उत्तर और मध्य कश्मीर में पूरी तरह से शांति का माहौ’ल है।

हलाकि केंद्र सरकार ने राज्य में सुरक्षा के इतने कड़े इंतजाम किए हैं। की राज्य में धारा 144 लागू है, इंटरनेट बंद है वहीं कुछ इलाकों में क’र्फ्यू जैसे हाला’त हैं। इसके चलते वहां के लोगों को परेशानी का खासा सामना करना पड़ रहा है। अब खबर आयी है कि शुक्रवार को जुमे की नमा’ज के लिए सरकार थोड़ी ढील दे रही है। जम्मू कश्मीर के राज्यपाल के सलाहकार और सीआरपीएफ के पूर्व चीफ के विजय कुमार ने द इंडियन एक्सप्रेस के साथ बातचीत में इसकी पुष्टि की है।

jammu
Image Source: Google

विजय कुमार ने कहा कि शुक्रवार को जुमे की नमाज के लिए धारा 144 के तहत कुछ ढील दी जाएगी। वहीं ईद के बारे में रविवार को अंति’म फैसला लिया जाएगा। राज्यपाल के सलाहकार के विजय कुमार ने बताया कि हम लोगों को प्रोत्साहित कर रहे हैं कि ईद बेहतर उत्साह और पब्लिक ऑर्ड’र को बिना बाधित किए मनाएं।

सलाहकार और अधिकारीयो की माने तो राज्य में लोगों को जरुरी सामान लेने के लिए घरों से निकल रहे हैं। हर रिहाइशी इलाके में शाम के समय कुछ दुकानें खुल रही हैं और लोगों को बिना भी’ड़ लगाए खरीददारी की इजाजत दी जा रही है। के विजय कुमार ने बताया कि सुरक्षाबलों की मदद से लोगों को जरुरी चीजें मुहै’या कराई जा रही है। और खाने पिने से लेकर लोगो की रोज मर्रा की जरुरु चीजों का स्टक भी है।

आपको बता दें कि केन्द्र की मोदी सरकार ने बीते सोमवार को राज्यसभा में जम्मू कश्मीर पुनर्गठन बिल पेश कर राज्य को आर्टिकल 370 के तहत मिले सभी विशेषाधिकार समाप्त कर दिए हैं। इसके साथ ही सरकार ने जम्मू कश्मीर को दो हि’स्सों में बाट दिया है जिसमे जम्मू कश्मीर को केन्द्र शासित प्रदेश का दर्जा मिला है वही लद्दाख को भी अलग केन्द्र शासित प्रदेश का दर्जा मिला है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *