कोरोना वायरस से इटली में पसरा मातम, हालात हुए बेकाबू, एक दिन में आये हैरान करने वाले आंकड़े

दुनिया भर में कोरोना वायरस ने कोहराम मचा रखा है। सबसे ज्यादा हालात इटली में खराब नजर आ रहे हैं। इटली में कोरोना से व्यक्ति की मौत हो जाती है, उसे आख़िरी बार देखना और उसे पूरे सम्मान के साथ विदा करना आपके लिए सबसे ज़रूरी हो जाता है.लेकिन कोरोना वायरस की महामारी के कारण अपनों को अंतिम विदाई देने का मौक़ा भी इटली के लोगों पास से छिन गया है. ये एक तरह से मृतक को दिए जाने वाला सम्मान छीनने और परिवार के लोगों का दुख बढ़ाने जैसा है।

पहले ये बीमारी मरने से ठीक पहले आपको अपने सभी प्रियजनों से अलग-थलग करती है. फिर ये किसी को आपके पास आने नहीं देती. परिवारों के लिए ये बेहद मुश्किल समय होता है और उनके लिए ये स्वीकार करना बहुत दुखदायक होता है. इटली में कोरोना वायरस का कहर चरम पर पहुंच चुका है।

इटली में पिछले 24 घंटों में एक ही दिन में 1000 से भी ज्यादा लोगों की मौतें हुई हैं जो कि एक रिकॉर्ड है। वहीं कोरोना वायरस के संक्रमण से मरने वालों की संख्या 9134 पहुंच चुकी है। वहीं, दुनियाभर में इस खतरनाक वायरस से मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 26,350 हो चुकी है।

इटली में इस हफ्ते एक दो बार आंकड़ों में कमी आने से देश का मेडिकल स्टाफ मुस्कुराने लगा था लेकिन एक बार फिर हालात दर्दनाक हो गए हैं। हालांकि, इन्फेक्शन का रेट पिछले दिनों से कम हो गया है।

इटली में मौत न सिर्फ तांडव बनकर नाच रही है, बल्कि इधर-उधर मौत की भयावह तस्वीरें देखकर लोग मानसिक तौर पर विक्षिप्त होने लगे हैं। लगता नहीं कि इटली जल्द इस महामारी से उबर पाएगा।

वहीं विशेषज्ञों का मानना है कि इटली में कोरोना वायरस का संक्रमण आने वाले कुछ दिनों में चरम पर पहुंच जाएगा। वहीं क्षेत्रीय प्रशासन ने इलाज कर रहे चार और प्रमुख चिकित्सकों की मौत के मद्देनजर चेतावनी दी है कि संकट का दौर अभी टला नहीं है।

बता दें कि इटली के बाद सबसे ज्यादा मौतें स्पेन में हुई हैं जहां एक दिन में 569 जानें चली गईं। इसके साथ ही यहां मरने वालों का कुल आंकड़ा 4,934 हो गया है।