Images: कोरोना ने लील ली एक पीढ़ी, दफनाने को कम पड़ रहे ताबूत बुलानी पड़ी सेना

Images: कोरोना ने लील ली एक पीढ़ी, दफनाने को कम पड़ रहे ताबूत बुलानी पड़ी सेना

चीन के वुहान से शुरू हुए कोरोना वायरस की जद में लगभग सारी दुनिया आ चुकी है, वही सैलानियों का पसंदीदा ठिकाना रहा इटली आज कोरोना वायरस के कहर का बहुत दिरा सामना कर रहा है। ‘सिटी ऑफ लव’ कहा जाने वाला वेनिस शहर आज पूरा वीरान पड़ा है। पूरे देश में लॉक डाउन है। हर तरफ मातम का माहौल है।

यही नहीं इटली ने कोरोना से होने वाली मौतों के मामले में अब इस बीमारी के गढ़ रहे चीन को भी पीछे छोड़ दिया है। हालत यह है कि लाशों को दफनाने के लिए सेना का इस्तेमाल करना पद रहा है।

वही नब्भारत टाइम्स की खबर के अनुसार इटली में बुधवार को 475 लोगों की मौत हुई है। जिससे लाशों का अंबार लग गया। इटली का सबसे ज्‍यादा प्रभावित शहर बेरगामो शहर है जिसमे हालत यह हो गई कि लोगों की लाशों को दफनाने में परेशानी कड़ी हो गई है।

इस संकट के लिए सेना को बुलाया गया। सेना के वाहनों में दर्जनों लाशों को रखा गया और फिर उन्‍हें दफनाने के लिए शहर से बाहर अन्‍य जगहों पर ले जाया जा रहा है।

इटली के बेहद धनी बेरगामो शहर में मात्र बुधवार के दिन कोरोना से 93 लोगों की मौत हुई थी। और यह सिलसिला लगातार जारी है। गुरुवार को इटली में 427 लोगों की कोरोना से मौत हो गई। इससे मरने वालों का आंकड़ा 3405 हो गया है।

इटली में लाशों को दफनाने के काम में 24 घंटे भी कम पद रहे है। इटली के बेरगामो में हर दिन 25 से भी ज्यादा लोगों को ही दफनाया जा रहा है। माना जा रहा है कि इसी वजह से कई लाशों को सेना के ट्रकों पर लादकर शहर से बाहर मोदेना, अक्‍वी टेर्मे, दोमोदोस्‍सोला, परमा, पिसेंजा और अन्‍य शहरों में ले जाया गया है।

शवों को दफनाने का सिलसिला लगतार जारी है। इटली में लाशें इ‍तनी ज्‍यादा हैं कि उनका अंतिम संस्‍कार नहीं हो पा रहा है। इसी वजह से उन्‍हें चर्च के अंदर बने कब्रगाह में ले जाया गया है। लाशों के ताबूतों से दो अस्‍पताल भरे हुए हैं।

जिन लोगों की मौत हुई है, उनके करीबियों को जाने की अनुमति दी जा रही है लेकिन बहुत ही कम संख्‍या में और बहुत दूरी से ताकि वायरस का संक्रमण न फैले।

Leave a comment