प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट बुलेट ट्रेन पर संकट? मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने दिया प्रोजेक्ट के रिव्यू का आदेश

हाल ही में भारत के नियंत्रक और महालेखापरीक्षक (कैग) ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया है कि भारतीय रेल की माली हालत साल 2018 में बीते 10 सालों की तुलना में सबसे ख़राब है। इस रिपोर्ट सामने आने के बाद विपक्षी दलों ने रेल मंत्री पीयूष गोयल समेत केंद्र सरकार को आड़े हाथों लिया था। वही अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट में से एक अहमदाबाद टू मुंबई बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट पर संकट के बदल मडराते नज़र आ रहे है। महाराष्ट्र की नई सरकार ने इस प्रोजेक्ट के रिव्यू के आदेश दिए हैं।

बता दें कभी भारतीय जनता पार्टी बीजेपी के साथ रही शिवसेना ने सत्ता में आते ही पुराने फैसले पलटने और प्रॉजेक्ट्स की समीक्षा का सिलसिला शुरू कर दिया है। महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य में चल रहे सभी काम का रिव्यू करने को कहा है, जिसमें बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट भी शामिल है. ऐसे में अब देखना होगा कि महाराष्ट्र सरकार इस मामले पर आगे क्या फैसला लेती है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट बुलेट ट्रेन पर मड़राय संकट?

सीएम उद्धव ठाकरे ने रविवार को बताया कि उन्होंने बुलेट ट्रेन प्रॉजेक्ट की समीक्षा के आदेश दिए हैं। बुलेट ट्रेन परियोजना को किसानों और आदिवासियों के कड़े विरो’ध का सामना करना पड़ा, जिनकी भूमि अधिग्रहीत की जानी है। उन्होंने कहा, यह सरकार आम आदमी की है। जैसा कि आपने अभी पूछा, हां, हम बुलेट ट्रेन परियोजना की समीक्षा करेंगे।

आपको बता दें कि अहमदाबाद टू मुंबई बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की नींव रखी जा चुकी है लेकिन महाराष्ट्र से लेकर गुजरात तक कई गावों के किसानों ने इसका विरो’ध किया था और ज़मीन देने से इनकार कर दिया था. अब महाराष्ट्र की नई सरकार किसानों के लिए इस प्रोजेक्ट को दोबारा जांचना चाहती है।

गौरतलब है कि बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की फंडिंग में राज्य सरकारों को भी हिस्सा देना है, इसमें महाराष्ट्र का 25 फीसदी हिस्सा है. कांग्रेस-एनसीपी-शिवसेना की इस सरकार का दावा है कि वह जल्द ही महाराष्ट्र की आर्थिक हालत पर व्हाइट पेपर लाएगी, क्योंकि राज्य सरकार पर करीब 5 लाख करोड़ रुपये का कर्ज है।

आपको बता दें कि उद्धव ठाकरे के शपथ लेने से पहले भी ऐसी खबरें आई थीं कि महाराष्ट्र सरकार बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की फंडिंग रोक सकती है, हालांकि अभी तक ऐसी बात सामने नहीं आई है। हलाकि उद्धव ठाकरे के शपथ लेने बाद उनसे पूछा गया तो उन्होंने कहा की हम बुलेट ट्रेन परियोजना की समीक्षा करेंगे। क्या मैंने आरे कार शेड की तरह बुलेट ट्रेन परियोजना को रोका है क्या? नहीं न।

Leave a comment