Home desh जम्मू-कश्मीर और लद्दाख छोड़िए, मैं भारत और पाक के विभाजन को ही गलत मानता हूँ- दलाई लामा

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख छोड़िए, मैं भारत और पाक के विभाजन को ही गलत मानता हूँ- दलाई लामा

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख छोड़िए, मैं भारत और पाक के विभाजन को ही गलत मानता हूँ- दलाई लामा

भारत में चल रहे गरमागरम राजनीतिक माहौल के दोरान, कश्मीर में मोदी सरकार द्वारा आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से ही भारत और पकिस्तान के बीच की दूरियां काफी बढ़ गयी हैं. इन दोनों देशों की बीच कश्मीर को लेकर यु’ध्द तक की स्तिथि पैदा हो चुकी थी. क्योंकि कुछ दिन पहले पाकिस्तान की तरफ से इस बारे में बयानबाज़ी भी की गयी थी. इधर से भी पाक समेत एनी देशों को कह दिया गया है की ये हमारा अंदरूनी मामला है, इसीलिए कोई भी कश्मीर मुद्दे पर दखल न दे.

इन सब के बीच कुछ समय बाद, यानि के अब तिब्बत के मशहूर बड़े धर्मगुरु ‘दलाई लामा’ ने पाकिस्तान की इमरान सरकार के ऊपर टिपण्णी करते हुए बयान दिया है, उन्होंने अपने बयान में पकिस्तान की इमरान सरकार को दुनियाभर से मदद मांगने की कोशिशों को देखते हुए दलाई लामा ने पाकिस्तान को नसीहत देते हुए कहा कि पाकिस्तान भारत से कभी जीत नहीं सकता है.

Dalai Lama

इसके बाद उन्होंने कहा कि ‘पाक की हालत खस्ता है. इमरान खान भाषण में भले ही जोश दिखा रहे हों, लेकिन सच्चाई से वह भी वाकिफ हैं. इमरान खान जानते हैं कि अगर जंग हुई तो पाकिस्तान भारत को हरा नहीं सकता. ऐसे में बेहतर होगा कि पाकिस्तान भारत से दोस्ती ही बनाये रखे.

 

दैनिक भास्कर की खबर के मुताबिक़ दलाई लामा ने अपने बयान में कहा कि में जम्मू कश्मीर के भारत में दुबारा शामिल करने के इस फैसले का समर्थन करता हूँ लेकिन भारत का बंटवारा पूरी तरह से गलत हुआ है|

तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा ने कहा, भारत सरकार के लद्दाख और जम्मू-कश्मीर के रूप में दो केंद्र शासित राज्य बनाने का फैसला सही है या नहीं, यह जटिल सवाल है. लेकिन, पहले तो मैं समझता हूं कि भारत-पाकिस्तान का विभाजन ही गलत हुआ. गांधीजी भी इसके खिलाफ थे.

इसके बाद उन्होंने कहा कि भारत-पाकिस्तान के विभाजन का कोई कारण नहीं था. आज की तरह 1947 में भी पाक हे हिस्से में गए राज्यों से ज्यादा मुसलमान भारत में थे| पाक के कब्जे वाला कश्मीर PoK भारत के कश्मीर से बहुत कम विकसित है|

आपको बता दें कि दलाई लामा ने देश के पहले पीएम पंडित जवाहरलाल नेहरू से लेकर मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुड़ी सभी यादें उन्होंने अपने बयान में ताज़ा की उन्होंने बताया कि वह नेहरू से पहली बार 1954 में चीनी पीएम द्वारा आयोजित लंच में मिले थे. नेहरू की वजह से ही वह भारत के मेहमान हैं|

दलाई लामा ने कहा कि राजीव गांधी बुद्धिमान पीएम थे. उनके बाद अब मोदीजी भी दुनिया का दौरा कर भारत का नाम नई ऊंचाइयों पर ले जा रहे हैं|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here