पुलिस ने दलित छात्रा संजलि को जिंदा जलाने वाले का किया खुलासा, उसे जलाने वाला कोई और नहीं बल्कि..

यूपी के आगरा में एक छात्रा संजलि को बड़ी ही बेहरमी से पेट्रोल डाल के जिंदा जलाने का मामला सामने आया था. जिसकी गूंज देशभर में गूंजने लगी थी इस मामले में पुलिस ने सनसनीखेज खुलासा किया है जिसे सुनकर यकीन कर पाना मुशिकल हैं. दरअसल संजलि को किसी बाहरी ने नहीं बल्कि अपनों ने ही जलाया. इसी के चलते उसके चचेरे भाई योगेश ने आत्मह$त्या कर ली. योगेश पर पुलिस को पहले दिन से ही शक था योगेश संजलि के ताऊ का लड़का था.

योगेश के साथ उसका ममेरा भाई विजय और उसकी बहन का देवर आकाश शामिल थे. इस घटना को पुरे प्लान के साथ अंजाम तक पहुंचाया गया. 18 दिसम्बर को जब संजलि करीब दो बजे अपनी साईकिल से स्कूल से घर जा रही थी उसी दौरान नवांमील के पास इस घटना को अंजाम दिया गया था.

जिसके 36 घंटे के बाद दिल्ली के सफदरगंज हॉस्पिटल में उसने दम तोड़ दिया. इसके बाद योगेश ने 20 दिसम्बर को जहर खाकर जा$न दे दी थी. योगेश का श$व घर की छत पर बरामद हुआ था जिसके बाद इस मामले को राजनीतिक रंग ले लिया गया. भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर ने भी यहां आकार बयानबाजी की थी.

इसके साथ ही सीएम योगी ने उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा को भी आगरा भेजा था. वहीं कांग्रेस से प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर भी आगरा पहुंचे थे और सभी ने जमकर योगी सरकार को घेरना शुरू कर दिया था. वहीं इस मामले में पुलिस को सीसीटीवी फुटेज देखने के बाद जो पता चला वह हैरान कर देने वाला था.

एसएसपी अमित पाठक ने कहा कि सीसीटीवी फुटेज से पता चला कि घटना में तीन लोग शामिल थे. जबकि संजलि ने अपने बयान में दो लोग बताए थे. पुलिस के अनुसार योगेश और आकाश एक ही बाइक पर थे और विजय दूसरी बाइक पर था.

जब संजलि अपने स्कूल से निकली तो योगेश और आकाश उसके पीछे लग गए और विजय पहले से आगे खड़ा था. योगेश संजलि का चेहरा जलाना चाहता था लेकिन उसे इस बात का अंदाजा नहीं था कि आग भड़क उठेंगी और संजलि की जा$न चली जाएगी.

पुलिस के अनुसार योगेश ने संजलि की बहन अंजलि को नौकरी का झांसा दिया था लेकिन जब उसकी नौकरी नहीं लगी तो संजलि ने योगेश को फटकार दिया था. इसके बाद योगेश ने संजलि को भी अपने जाल में फंसना चाहा और उसे मॉडल बनाने के सपने दिखाए लेकिन कुछ बात नहीं बनी.

शातिर किस्म के योगेश के झांसों को दोनों बहने समझ गई थी इसलिए उन्होंने योगेश को कड़ी फटकार लगा दी थी. इसके आलावा उन्होंने योगेश को कभी बात न करने के लिए भी कह दिया था जिससे योगेश चिढ गया और उसे गुस्सा आ गया और फिर उनके यह कदम उठाया.