CAA-NRC: जामिया के छात्र-छात्राओं पर फिर चला दिल्ली पुलिस का डंडा, कई हॉस्पिटल में भर्ती

नागरिकता संशोधन कानून के विरोध को लेकर, दिल्ली के जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में, आज वहां के छात्र-छात्राओं ने संसद तक मार्च निकालने की कोशिश की. हालांकि पुलिस ने काफी मजबूत बेरीकेटिंग लगा रखे थे जिससे कि छात्र-छात्राएं। सुरक्षा के घेरे को न तोड़ सकें, लेकिन इसके बावजूद भी, जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्रों द्वारा जमकर प्रदर्शन किया गया.

जामिया के छात्र-छात्राओं को इस प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने इनके मार्च को रोकने की कोशिश की, जिसके चलते स्तिथि कुछ ऐसी बनी कि पुलिस ने लाठीचार्ज करना पड़ा. और इस लाठीचार्ज में जामिया मिलिया इस्लामिया के कई छात्र-छात्राएं घाय’ल हो चुके हैं.

दिल्ली पुलिस ने, जामिया के छात्र-छात्राओं पर लाठी चार्ज किया

Jamia Student Detained
Jamia Student and Police

इन सभी छात्र-छात्राओं को हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। सोशल मीडिया पर। कुछ लोगों ने पुलिस पर यह आरोप भी लगाया है कि छात्राओं के प्राइवेट पा’र्ट तक पर पुलिस ने डंडे बरसाए हैं. आपको बता दें कि यह आंदोलन जामिया समन्वय समिति के नेतृत्व में निकाला जा रहा था.

देशभर में नागरिकता कानून के खिलाफ धरने प्रदर्शन किए जा रहे हैं. हालांकि यह धरने प्रदर्शनों की व्यापक स्तर पर शुरुआत दिल्ली के जामिया और जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी से हुई थी.

पुलिस पर आरोप, युवतियों के प्राइवेट पा’र्ट पर डंडों से मारा

इसके बाद दिल्ली के ही शाहीन बाग, से होते हुए यह एक एक करके देश भर के कई राज्यों में पिछले 2 महीनों से कई जगह प्रदर्शन चल रहे हैं.

Police Arrest Jamia Student
प्रदर्शन में घायल हुए छात्र

खबरों के अनुसार बताया जाता है कि पुलिस ने इन प्रदर्शनकारियों को, संसद की ओर मार्च निकालने की इजाजत नहीं दी थी. इसके बावजूद भी उन्होंने मार्च निकाला.

हालांकि विश्वविद्यालय के आसपास तक भी, सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया था।. इसके बावजूद भी इन प्रदर्शनकारियों ने जामिया मिलिया इस्लामिया के गेट नंबर 7 अपना मार्च निकालना शुरू कर दिया था.

पुलिस ने छात्रों से मार्च बंद करने की अपील की थी

जिसके बाद पुलिस ने इन लोगों से मार्च को वही खत्म करने की अपील भी की थी, लेकिन यह लोग नहीं माने, और इस मार्च में प्रदर्शनकारी नारेबाज़ी करते हुए आगे बड़ने लगे थे.

बताया जाता है कि प्रदर्शनकारी कुछ इस तरह की नारेबाजी कर रहे थे. “जब नहीं डरे गोरों से, तो अब क्या डरेंगे औरों से”. हल्ला बोल और “कागज़ नहीं दिखायेंगे” जैसे नारे भी लगाये गए.

इस प्रदर्शन में जामिया की छात्राओं के अलावा कई महिलाएं भी शामिल थीं, जिन को काफी चोटें आई हैं. इधर प्रदर्शनकारियों का कहना था कि जब पिछले 2 महीने से हम लोग प्रदर्शन कर रहे हैं, हमसे बात करने के लिए सरकार की तरफ से अभी तक कोई नहीं आया है.

इस वजह से हम लोग बात करने के लिए उनके पास जाना चाहते हैं. पुलिस और जामिया के छात्रों की इसी बात को लेकर बहस होने लगी और जब वह धीरे-धीरे धक्का-मुक्की तक पहुंच गई.

इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने पुलिस के सुरक्षा घेरे को तोड़कर वहां से मार्च निकालना चाहा, जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज के आदेश दे दिए. और इसमें कई छात्र और छात्राएं चोटिल हुई हैं जिनका अभी अस्पताल में इलाज चल रहा है.

सोशल मीडिया पर लोगों में गुस्सा

इस प्रदर्शन को सोशल मीडिया पर लाइव वीडियो के द्वारा भी कई लोगों ने दिखाया है, जहां कई लोग नागरिकता कानून को लेकर समर्थन कर रहे हैं, तो वहीं इसका विरोध करने वालों की भी कम तादाद नहीं है.

jamia ke chatron par dilli police ka lathicharge

फिलहाल सरकार की तरफ से अभी इस मामले पर खुल कर कुछ कहा नहीं गया है. आने वाले दिनों में देखना यह होगा कि नागरिकता कानून के विरोध में चल रहे यह प्रदर्शन कुछ रंग लेट हैं या नहीं?