देवबंद उलेमा के निशाने पर आए यूपी के DGP ओपी सिंह, लगाया मुसलमा’नों को बदनाम करने का आरोप

यूपी के डीजीपी ओपी सिंह अब देवबंदी उलेमा के निशाने पर आ गए हैं। उत्तर प्रदेश में लगातार सांप्रदायि’क घट’नाएं सामने आ रही हैं. अभी कुछ दिन पहले पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में एक मौल’वी से मारपी’ट, दाढ़ी खींचने और जबरन ‘जय श्री राम’ बुलवाने का मामला सामने आया था. इसके अलावा उन्नाव और बरेली में भी कुछ इसी प्रकार की घट’नाएं सामने आई थीं. जिसको लेकर उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह के बयान से देवबंदी उलेमा भड़क उठे।

उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह द्वारा मुसलमा’नों के साथ होने वाली धार्मि’क उत्पीड़न की घट’नाओं को झूठा ठहराने वाले बयान पर देवबंदी उलेमा ने नाराजगी का इजहार किया है। उलमा ने आरोप लगाया कि डीजीपी का बयान मुसलमा’नों को बदनाम करने वाला बयान है।

Image Source: Google

जानकारी के मुताबिक गुरुवार को इत्तेहाद उलमा-ए-हिंद के उपाध्यक्ष मौलाना मुफ्ती असद कासमी ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि इस्लाम झूठ बोलने की इजाजत नहीं देता जो इस तरह का झूठ बोलता है सरकार को चाहिए कि उनकी जांच कराए और उनके विरुद्ध शख्त से शख्त कार्रवाई कराए।

उन्होंने कहा कि जो लोग इस तरह की अफवाह उड़ाते हैं उनके साथ साथ बेगुनाहों का खून बहाने वाले लोगों के विरुद्ध कानून बनाना चाहिए और उन पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि यह मुसलमानों को बदनाम करने की साजिश है। क्या हिंस’क भी’ड़ द्वारा तबरेज अंसारी और पहलू खान की ह$त्या नहीं हुई।

उन्होंने कहा कि हमें लगता है कि दबाव में आकर इस तरह के बयान दे रहे हैं। ऐसे बयान देने से अच्छा है कि पूरी ईमानदारी के साथ जांच करें और उसके बाद कोई बयान दें। साथ ही कहा कि जब भी भी’ड़ हिं’सा होती है तो ऐसा करने वाले आरोपी खुद ही उसकी वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल करते हैं। क्या उन्हें झुठलाया जा सकता है।

साभार: amarujala