बड़ी खबर: जिला प्रशासन यहां सड़क पर नमाज पढ़ने पर लगाया प्रतिबंध

अलीगढ़: यूपी के कई इलाकों में सड़क पर नमाज और हनुमान चालीसा पढ़ने को लेकर कई मामले सामने आने के बाद प्रशासन चौकन्ना हो गया है। इसके तहत अब अलीगढ़ प्रशासन ने सख्त कदम उठाया है। यहां जिला प्रशासन ने हिंदुओं द्वारा शनिवार और मंगलवार को सड़क पर की जाने वाली हनुमान चालीसा और महाआरती पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसके साथ ही मुसलमा’नों द्वारा सड़क पर नमाज पड़ने पर भी बैन लगा दिया है। हालांकि ईद पर नमाज पढ़ने को लेकर इस तरह की पाबंदी नहीं लगाई गई है।

अलीगढ़ के जिला मजिस्ट्रेट सीबी सिंह ने कहा कि अब जिले की सड़कों पर बिना इजाजत के किसी भी प्रकार का धार्मि’क आयोजन नहीं किया जा सकेगा उन्होंने कहा कि मैंने ऐसे लोगों से बात की है जो इस प्रकार के आयोजन करते आए हैं और उन्हें स्थिति से भी अवगत करवाया है. इस प्रकार के आयोजनों से कानून व्यवस्‍था पर असर पड़ सकता है. खास कर उन इलाकों में जो संवेदनशी’ल हैं।

Image Source: Google

जिला प्रशासन के इस आदेश के बाद बीजेपी के नेता मानव महाजन ने प्रशासन पर सवाल उठाया है. हालांकि मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महाली ने लोगों से अपील की है कि इस मुद्दे को राजनीतिक रंग न दिया जाए. साथ ही उन्होंने कहा कि यह समझने वाली बात है कि शहर में एक ही मस्जि’द होने के कारण जब लोगों की संख्या ज्यादा हो जाती है तो उन्हें कई बार सड़क पर भी नमाज पढ़नी पड़ती है, ऐसा ही अन्य धर्मों के साथ भी है।

जब मंदिरों में लोगों की संख्या ज्यादा होती है जो लोग बाहर खड़े होकर ही पूजा प्रार्थना करते हैं महाली ने कहा कि मैं लोगों ने विनती करता हूं कि इस आदेश को मुद्दा न बनाया जाए. मुस्लि’म समुदाय के लोगों से अपील है कि वो कोशिश करें कि नमाज मस्जि’द के अंदर ही अदा की जाए. साथ ही उन्होंने कहा कि मैं हिं’दू भाइयों से भी अपील करता हूं कि आर्ती और हनुमान चालिसा पवित्र हैं उनका राजनीतिक फायदे के लिए इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए।

वही मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महाली ने कहा कि अलीगढ़ में सदियों से हिंदू-मुस्लि’म भाईचारे की मिसाल दी जाती है. जिसको हमें इसे संजो कर रखना है. साथ ही उन्होंने कहा कि मैं मुस्लि’म भाइयों से अपील किया है कि वे वर्तमान में चल रही कांवड़ यात्रा में भी सहयोग दें और लोगों की मदद करें।