इस दिग्गज मुस्लि’म नेता को हराने के लिए डीएम को किया गया पांच बार फोन, भड़की प्रियंका गाँधी ने…

उत्तर प्रदेश की 11 विधानसभा सीटों के लिए मतगणना जारी है। लेकिन इस दौरान कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने गंगोह विधानसभा उपचुनाव में धांधली का आरोप लगाया है। आपको बता दें यूपी में हो रहे उपचुनाव में शुरू से ही कांग्रेसी प्रत्याशी नोमान मसूद आगे चल रहे थे पहले राउंड से ही नोमान मसूद बढ़त बनाए हुए थे वहीं भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी तीसरे स्थान पर चल रहे थे लेकिन आखिर के 2 राउंड में भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी को विजय घोषित कर दिया गया जिसके बाद जमकर हल्ला शुरू हो गया।

जिसके बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने धांधली का आरोप लगते हुए योगी सरकार पर निशाना साधा कहा कि उनकी पार्टी के जीतते हुए प्रत्याशी को काउंटिंग सेंटर से निकालकर उनका बीजेपी मंत्री जनता का निर्णय बदलने के प्रयास में है। इससे पहले यूपी कांग्रेस चीफ अजय कुमार लल्लू ने भी प्रशासन पर हेरफेर का आरोप लगाया था।

वही इस मामले को देखते हुए कांग्रेस नेता इमरान मसूद ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस कर या आरोप लगाया कि आखिर के दो चरण में उनके एजेंटों को बाहर निकाल लिया गया और काउंटिंग नहीं की गई इमरान मसूद ने कहा कि डांगले बाजी कर हमें चुनाव हराया गया है लोकतंत्र को कुचला जा रहा है शुरू रात से ही हम बढ़त बनाए हुए थे लेकिन आखिरी राउंड की काउंटिंग में आकर हमारे एजेंटों को बाहर कर दिया गया और बीजेपी को विजय घोषित कर दिया गया।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी एक और ट्वीट कर कहा की DM को पाँच-पाँच बार फोन पर लीड कम करवाने के आदेश आ रहे थे। यह लोकतंत्र का सरासर अपमान है। प्रियंका गांधी ने इशारों इशारों में आगे की रणनीति को भी साफ कर दिया और कहा कि उत्तर प्रदेश कांग्रेस पार्टी इसके ख़िला’फ सख़्ती से लड़ेगी। निर्वाचन आयोग इस मामले की निष्पक्षता से जाँच कराए।

आपको बता दें इमरान मसूद और नोमान मसूद के समर्थकों ने हाथ पर काली पट्टी बांधकर विरो’ध प्रदर्शन शुरू कर दिया है साथ ही हजारों की संख्या में लोग इमरान मसूद के घर पहुंच गए हैं माना जा रहा है कि यह प्रदर्शन बड़ा रूप ले सकता है जिस तरह प्रियंका गांधी ने इस मसले को लेकर ट्वीट किया है उसे साफ नजर आता है कि कांग्रेस इस मुद्दे को गरमाने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ने वाली।

वह इमरान मसूद ने कहा कि हम इस मामले को चुनाव आयोग के सामने लेकर जाएंगे इमरान मसूद ने आरोप लगाया कि मैं कमिश्नर से मिलने गया लेकिन कमिश्नर नहीं मिले मैं ने डीएम को भी तीन चार बार फोन किया मेरे विधायकों ने भी डीएम को दो दो बार फोन किया लेकिन डीएम ने कोई भी बात बताने से मना कर दी।

हम इससे पहले भी चुनाव हारे हैं और हमने अपनी हार स्वीकार की है लेकिन इस बार हमें मतगणना स्थल से निकाला गया इससे साफ नजर आता है कि चुनाव के अंदर गड़बड़ी हुई है वोटों की गिनती में बड़े पैमाने पर धांधली बाजी हुई है क्योंकि जब हम पहले राउंड से ही आगे चल रहे थे तो अंतिम राउंड में हम एकदम पीछे कैसे हो गए इसका मतलब यह है कि प्रशासन ने दो राउंड की मतगणना नहीं कराई है।

आपको बता दे सहारनपुर की सड़कों पर हजारों कार्यकर्ता और इमरान समर्थक मौजूद है सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भी जमकर कांग्रेसी सक्रिय हो गए हैं वहीं इस चुनाव परिणाम को लेकर डीएम के खिलाफ भी जमकर नारेबाजी हो रही है वहीं इलेक्शन कमीशन से भी इस बारे में शिकायत की गई है।

इमरान मसूद ने यह भी कहा कि भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी पहले ही कह चुके थे कि डीएमओ ने खुद सर्टिफिकेट दे देगा तो इसका मतलब डीएम ने उन्हें सर्टिफिकेट दे दिया शुरुआत से हम आगे चल रहे थे लेकिन आखिरी राउंड में हमें पीछे कर दिया गया आखिर इसकी क्या वजह थी आप समझ सकते हैं।