मंदी की मार झेल रहे ऑटो सेक्टर में मचा हाहाका’र, नौकरी जाने के डर से, बीजेपी नेता के लड़के ने की आत्मह’त्या

देशभर में आर्थिक मंदी की वजह से अर्थव्यवस्था का संकट मंडराता जा रहा है। ऑटो सेक्टर से लेकर हर तरफ तराये तराये मची हुई है। पिछले महीने ही यह ख़बर आई थी कि ऑटो सेक्टर में 10 लाख लोगो की नौकरियाँ जाने का ख़त’रा मडरा रहा है। देश भर में पिछले 18 महीनों में 286 डीलरों को अपनी दुकानें बंद करनी पड़ी हैं। इसके अलावा जुलाई, महा में पिछले 19 सालों में सबसे कम वाहनों की बिक्री हुई है। ऑटो इंडस्ट्री के जानकारों का कहना है कि अभी इससे भी ज़्यादा ख़राब हालात आने वाले हैं।

ऑटो सेक्टर से लेकर तमाम कंपनियों में लाखों कर्मचारियों की मंदी की वजह से नौकरियां जा चुकी हैं और कितने ही इस डर को लेकर जी रहे है। हाल ही में झारखंड के जमशेदपुर में इसी का एक ताजा मामला सामने आया है, जहां भारतीय जनता पार्टी बीजेपी के एक नेता के बेटे ने नौकरी जाने के डर से अपने ही घर में फं’सी के फं’दे पर लटक कर जा’न दे दी।

Image Source: Google

 

आपको बता दें जमशेदपुर के बारीडीह में बीजेपी के एक स्थानीय नेता कुमार विश्वजीत का 25 वर्षीय एक लोता बेटा आशीष कुमार खड़ंगाझार की एक कंपनी में काम करता था। यह कंपनी टाटा मोटर्स के लिए पार्ट्स बनाकर सप्लाई करती है। आशीष के पिता के मुताबिक टाटा मोटर्स में प्रोडक्शन काफी समय से रुका हुआ था, जिसका सीधा असर आशीष की कंपनी पर पड़ रहा था। इस वजह से आशीष काफी समय से हताश और परेशान था।

मीडिया से बात चित के दौरान आशीष के पिता ने बताया कि उनका बेटा उनसे कहता था कि नौकरी चली जाने डर से उसके मन में आत्मह$त्या करने के ख्याल आते हैं। इस पर पिता विश्वजीत ने कई बार उसे समझाने की कोशिश भी की। लेकिन नौकरी जाने का डर आशीष के दिल में ऐसा बैठा कि शुक्रवार रात को उसने अपने कमरे में फां’सी लगा कर अपनी जा’न दे दी।

वही आशीष के एक दोस्त ने मीडिया को बताया कि आशीष एक आशावादी लड़का था। उसे देख कर कभी नहीं लगा कि वह इस तरह का कदम उठा सकता है। अशीष के दोस्त ने बताया कि जब भी वे लोग मिलते थे तो वह हमेशा काम की ही बातें करता था।

आपको बता दें कि जमशेदपुर की कई छोटी छोटी कंपनियां टाटा मोटर्स के लिए काम कारती हैं। लेकिन आर्थिक मंदी की वजह से टाटा मोटर्स में इन दिनों जबरदस्त ब्लॉक क्लोजर चल रहा है यानि कंपनी में प्रोडक्शन रुका हुआ है, जहा महीने भर में कंपनी में 10 से 12 दिन ही काम हो रहा है जिसकी वजह से इन कंपनियों से हजारों कर्मचारियों को निकाला जा चुका है और कितने ही लोगों को अल्टीमेटम दिया गया है।

साभार: लल्लनटॉप