यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ का पुराना नाम लेने पर मचा बबाल, सपा नेता के खिलाफ FIR दर्ज, जानिए क्‍या कहकर बुलाया

लखनऊ: उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पुराना नाम लेने पर समाजवादी पार्टी (सपा) के नेता आई पी सिंह को पड़ गया भरी। अब (सपा) के नेता आई पी सिंह के खिलाफ FIR दर्ज किया गया है। यह मामला अधिवक्‍ता कमलेश चंद्र त्रिपाठी ने वाराणसी के शिवपुर थाने में दर्ज करवाई है। आई पी सिंह पर धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप लगा है। आरोप है कि समाजवादी पार्टी के नेता आई पी सिंह ने अपने ट्विटर अकाउंट पर योगी आदित्यनाथ का पुराना नाम लिखा था।

दरअसल समाजवादी पार्टी के नेता आईपी सिंह ने अपने ट्विटर अकाउंट पर योगी आदित्‍यनाथ का पुराना नाम ‘अजय सिंह बिष्‍ट’ लिखा था। अधिवक्ता कमलेश चंद्र त्रिपाठी ने अपनी तहरीर में कहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ संत परंपरा के अनुसार जीवन जीते हैं। गोरक्ष पीठ के पीठाधीश्वर होने के बावजूद आईपी सिंह सोशल मीडिया पर योगी आदित्यनाथ की जगह अजय सिंह बिष्ट लिखते हैं।

त्रिपाठी ने आगे कहा की इस तरह वह संतों और उनकी परंपराओं के साथ सनातन धर्म में आस्था रखने वालों की भावनाओं को ठेस पहुंचाते हैं। आई पी सिंह पर आईटी एक्ट की धारा 67 इलेक्ट्रॉनिक तरीके से घृणित वस्तु को प्रचारित करना के तहत एफआईआर दर्ज किया गया है।

जानकारी के मुताबिक यह एफआईआर बीते सोमवार को शिवपुर पुलिस स्टेशन में दर्ज कराई गई है। कैनटॉनमेन्ट के सर्किल ऑफिसर मोहम्मद मुश्ताक ने मीडिया से बातचीत के दौरान बताया कि थाने में शिकायत दर्ज कराई गई थी कि आई पी सिंह ने धार्मिक भावनाओं को आहत किया है जिसके आधार पर यह एफआईआर दर्ज की गई है।

वही इस मामले पर समाजवादी पार्टी के नेता आई पी सिंह का कहना है कि उन्हें इस एफआईआर के बारे में मीडिया रिपोर्ट्स से पता चला है। समाजवादी पार्टी के नेता के मुताबिक पुलिस ने उन्हें इस मामले में अभी तक कुछ भी नहीं कहा है।

सपा नेता आई पी सिंह का आरोप है कि पुलिस ने इस मामले में बिना उनका पक्ष जाने उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कर लिया मैंने यूपी के सीएम आदित्यनाथ का पुराना नाम लेकर कुछ गलत नहीं किया है। एसपी नेता ने बीते बुधवार को ट्वीट कर कहा कि वो हाईकोर्ट जाएंगे और इस एफआईआर को चुनौती देंगे।