ब्रिटेन में पहली हिजाब पहनने वाली मुस्लिम महिला जज ने रचा नया इतिहास

ब्रिटेन में एक नया इतिहास रचा गया है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार ब्रिटेन में ऐसा पहली बार हुआ है जब एक हिजाब पहनने वाली मुस्लिम महिला एक बड़े पद पर पहुंची है. जी हां ब्रिटेन में एक मुस्लिम महिला जज बनी है जो ब्रिटेन के इतिहास की पहली हिजाब पहनने वाली मुस्लीम जज है. उनकी इस उपलब्धि की चर्चा ना सिर्फ ब्रिटेन बल्कि पुरे विश्व में हो रही हैं.

ब्रिटेन की पहली हिजाब पहनने वाली जज बनी इस मुस्लिम महिला ने कहा कि मुस्लिम समुदाय के युवाओं को यह पता चलना चाहिए कि वे अपनी अक्ल के दम पर सब कुछ हासिल कर सकते हैं. ब्रिटेन की पहली हिजाब पहनने वाली जज बनने का गौरव प्राप्त करने वाली इस महिला का नाम रफिया अरशद है.

40 वर्षीय रफिया अरशद ने महज 11 वर्ष की छोटी सी उम्र से ही करियर बनाने के सपने देखना शुरू कर दिए थे. लेकिन उनके मन में सवाल उठने लगे कि क्या मेरे जैसे दिखने वाले और भी लोग होंगे और अगर जातीय अल्पसंख्यक पृष्ठभूमि से आने वाली एक कामकाजी महिला इसे बना सकती है?

लेकिन सभी सवालों को परे रख कर वह कड़ी मेहनत करने में जुट गई और फिर वह लगभग 30 साल की मेहनत के बाद ना केवल एक सफल बैरिस्टर बनी बल्कि एक इतिहास रचते हुए जज के पद पर भी नियुक्त हुई. आपको बता दें कि रफिया अरशद को पिछले सप्ताह ही मिडलैंड्स सर्किट में उप जिला न्यायाधीश के रुप में नियुक्त किया गया.

रफिया अरशद ने Metro.co.uk से बातचीत के दौरान बताया कि वह यह सुनिश्चित करना चाहती है कि विविधता की आवाज़ तेज़ और साफ सुनाई दे. उन्होंने कहा कि यह जाहिर तौर पर मुझसे बड़ा है मुझे पता है कि यह मेरे बारे में नहीं है. यह समुदाय की सभी महिलाओं के लिए एक बड़ा दिन है और ना सिर्फ मुस्लिम महिलाओं बल्कि महिलाओं के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है.

रफिया अरशद ने आगे कहा कि मैं काफी समय से काम कर रही थी और मैंने पाया कि मैं इससे काफी खुश रहती है. लेकिन मुझे यह अन्य लोगों से साक्षा करके और ज्यादा ख़ुशी मिल रही है. उन्होंने कहा कि मैंने फैसला किया है कि मैं अपना हिजाब पहनना जारी रखूंगी क्योंकि यह मेरे लिए उस व्यक्ति की पहचान करने में मदद करता है जो काम और पेशे के आधार पर आपको स्वीकार करता हैं.