IAS के निलंबन पर बिफरे पूर्व चुनाव आयुक्त कुरैशी, कहा- PM मोदी लगातार आचार संहिता का उल्लंघन कर रहे, काफिले की तलाशी सही थी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक चुनावी रैली के दौरान एक आईएएस ऑफिसर ने उनके हेलिकॉप्टर की जांच की थी. इसके बाद से ही इस मामले को लेकर विवाद बना हुआ है. दरअसल हेलिकॉप्टर की जांच करने वाले अधिकारी को चुनाव आयोग ने निलंबित कर दिया है. इसके बाद से ही चुनाव आयोग लगातार विपक्ष और बुद्धिजीवियों के निशाने पर आ गया है.

इसी बीच अब पूर्व चुनाव आयुक्त ने भी चुनाव आयोग को इस मामले में लताड़ लगाई है. पूर्व चुनाव आयुक्त शाहबुद्दीन याकूब कुरैशी ने पीएम के हेलिकॉप्टर की जांच करने वाले अधिकारी को निलंबित किए जाने को लेकर कहा कि पीएम मोदी और आयोग ने एक अच्छा मौका खो दिया है.

उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव 2019 में पीएम मोदी और चुनाव आयोग ने अपनी छवि सुधारने का मौका गवां दिया है. साथ ही उन्होंने कहा कि पीएम मोदी लगातार आचार संहिता का उल्लंघन किये जा रहे हैं और चुनाव आयोग उसे लगातार नजरअंदाज कर रहा है.

पूर्व चुनाव आयुक्त डा. एसवाई कुरैशी ने ट्विट करते हुए लिखा कि आयोग ने अपनी छवि सुधारने का मौका खो दिया है. ओडिशा में सामान्य पर्यवेक्षक के तौर पर तैनात आईएएस अधिकारी को पीएम मोदी के हेलिकॉप्टर की जांच करने के चलते निलंबित किया जाना न केवल दुर्भाग्यपूर्ण है बल्कि आयोग की छवि को सुधारने के मौके से चूकना भी है.

उन्होंने कहा कि दोनों ही जनता के स्कैनर पर रहते हैं. वहीं प्रधानमंत्री लगातार आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया जा रहे है और आयोग लगातार इसकी अनदेखी कर रहा है. पीएम के हेलिकॉप्टर की तलाशी यह दिखाने का एक मौका था कि कानून सभी के लिए बराबर है.

ऐसा करने से एक झटके में ही दोनों की आलोचनाएं खत्म हो जाती. लेकिन दुर्भाग्य से दोनों ने अलग ही रास्ता चुना. उनकी आलोचना अब पहले के मुकाबले काफी ज्यादा बढ़ जाएगी. इसके आलावा कुरैशी ने कहा कि इसके उल्ट ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक के चॉपर की उनके सामने तलाशी ली गई और इसके बाद से ही उनका कद और बढ़ गया है.