पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अनुच्छेद 370 को लेकर केंद्र सरकार से की मांग, कहा- जम्मू कश्मीर के लोगो..

नई दिल्ली: पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सोमवार को कहा कि अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को समाप्त करने का सरकार का फैसला देश के ज्यादा तर लोगों की अभिलाषा के अनुसार नहीं है और भारत के विचार को जीवंत रखना है तो जम्मू कश्मीर के नागरिकों की आवाज सुनी जानी चाहिए। भारत के विचार को जीवंत रखना है, तो जम्मू-कश्मीर के नागरिकों की आवाज सुनी जानी चाहिए सिंह ने कहा कि इस वक्त भारत गहरे संकट से गुजर रहा है और इसे समान विचार वाले लोगों के सहयोग की जरूरत है।

मनमोहन सिंह ने संवाददाताओं से बात करते हुए कहा कि सरकार का यह फैसला देश के कई लोगों को पसंद नहीं आ रहा। महत्वपूर्ण है कि इन सभी लोगों की आवाज सुनी जाए. हम केवल अपनी आवाज उठाकर सुनिश्चित कर सकते हैं कि दूरगामी रूप से भारत का विचार जीवंत रहे, जो हमारे लिए बहुत पवित्र है. मनमोहन सिंह ने अपने पूर्व कैबिनेट सहयोगी एस जयपाल रेड्डी को श्रद्धांज’लि देने के बाद पहली बार जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को हटाने पर अपनी प्रतिक्रिया दी।

Image Source: Google

वही वाइको ने कहा, की मोदी सरकार ने कश्मीर को कीचड़ में धकेल दिया है। मैंने पहले भी कश्मीर पर अपने विचार व्यक्त किए हैं। कश्मीर मुद्दे पर मैंने कांग्रेस पर 30% और भाजपा पर 70% हम’ला किया है। उन्होंने कहा कि एमडीएमके अगले महीने पूर्व मुख्यमंत्री और डीएमके संस्थापक सीएन अन्नादुरै की 110वीं जयंती मनाएगी।

5 अगस्त को गृह मंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में अनुच्छेद 370 खत्म करने का प्रस्ताव रखा था। इसके कुछ देर बाद ही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अधिसूचना जारी कर दी। जम्मू-कश्मीर का राज्य का दर्जा खत्म कर दिया गया है। जम्मू-कश्मीर और लद्दाख दो अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश होंगे। जम्मू-कश्मीर में विधानसभा होगी।