बुलंदशहर वायलेंस: गिरफ्तार हुए चारों मुसलमानो को मिली क्लीन चिट अब इन तीन को किया अरेस्ट

नई दिल्ली: 3 दिसंबर को बुलंदशहर में दो घटनाएं हुई थीं एक- इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की भीड़ के हाथों ह$त्या दूसरी उस जगह पर हुई कथित गोक$शी. इस गो$कशी की शिकायत में उत्तर प्रदेश पुलिस ने चार मुसलमानों को गिरफ्तार किया था 18 दिसंबर को पुलिस की तरफ से कहा गया कि ये चारों बेगुनाह हैं वो जल्द ही इन चारों की रिहाई के लिए अदालत जाएगी. बुलंदशहर के SSP प्रभाकर चौधरी ने इंडियन एक्सप्रेस से बात की उन्होंने बताया।

शुरुआती जांच में हम इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि पहले जो चार लोग गोक$शी के आरोप में पकड़े गए थे, वो निर्दोष हैं. बाकी ब्योरों की जांच के बाद हम कोर्ट जाएंगे, ताकि उन चारों को रिहा किया जा सके.

वही इंस्पेक्टर सुबोध के केस में मुख्य आरोपी है योगेश राज. उसने से कुछ देर पहले गो$कशी की रिपोर्ट लिखवाई थी. इसमें उसने सात मुसलमानों पर गाय काटने का इल्ज़ाम लगाया था. इसी FIR के आधार पर पुलिस ने सफरुद्दीन, साज़िद, आसिफ़ और नन्हे नाम के चार मुस्लिमों को गिरफ़्तार किया था. योगेश का दावा था कि घटना की सुबह तकरीबन नौ बजे वो अपने दोस्तों के साथ महाव गांव के खेतों की तरफ घूम रहा था।

वहां उसने सात लोगों को गाय काटते देखा तो शोर मचाने पर लोग वहां से भाग गए योगेश ने उन सातों की पहचान की वो उसी नया बांस गांव के रहने वाले हैं, जहां का योगेश खुद है अब पुलिस ने इन चारों को क्लीन चिट दे दी है योगेश घटना के बाद से ही फरार है पुलिस योगेश समेत कई फरार आरोपियों के घरों के बाहर कुर्की का नोटिस लगा चुकी है वैसे पुलिस ने कुछ वक़्त पहले कहा था कि वो गोकशी वाली घटना को प्राथमिकता दे रही है।

इधर इन चारों को क्लीन चिट मिली उधर 18 दिसंबर को ही इस केस की जांच के लिए बनाई गई स्पेशल इन्वेस्टिगेटिंग टीम (SIT) ने तीन और लोगों को अरेस्ट किया. ये तीनों भी गो#कशी के इल्ज़ाम में धरे गए हैं. इनके नाम हैं- काला, नदीम और रईस. काला को दो साल पहले भी गो कशी के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया था।

लेकिन फिलहाल जमानत मिली हुई है SIT को नदीम के पास से एक लाइसेंसी पिस्तौल भी मिली है पुलिस का दावा है कि उसने एक गाड़ी भी बरामद किया है, जिसका इस्तेमाल बीफ को लाने-ले जाने के लिए किया गया. पुलिस ने इन तीनों के पास से चाकू मिलने का भी दावा किया है पुलिस का कहना है कि इन चाकुओं का इस्तेमाल गोकशी में हुआ था।