उन्नाव दुष्क’र्म पी’ड़िता ने दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल ली आखरी सांस, एक और बेटी दरिन्दों से जंग हार गयी

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के उन्नाव (Unnao) की दु’ष्क’र्म पी’ड़िता की शुक्रवार रात को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौ#त हो गई। उन्नाव की दु’ष्क’र्म पी’ड़िता जिसे बीते 5 दिसंबर को एयरलिफ्ट कर गंभी’र हालत में लखनऊ से दिल्ली के सफदरजंग हॉस्पिटल लाया गया था। अस्पताल के बर्न एवं प्लास्टिक सर्जरी विभाग के प्रमुख डॉ. शलभ कुमार ने बताया, हमारे लाख प्रयास के बावजूद उसे हम बचा नहीं पाए। डॉ. शलभ कुमार ने बताया की शाम से ही उसकी हालत खराब होने लगी थी हमने उसको बचाने की बहुत कोशिश की लेकिन बचा नहीं पाए।

डॉक्टरों के मुताबिक दु’ष्क’र्म विक्टिम ने देर रात 11.40 पर कार्डि’यक अरेस्ट के बाद आखिरी सांस ली. बता दें कि दु’ष्क’र्म के आरो’पियों द्वारा जिं’दा ज’लाने के प्रयास के बाद पा’ड़िता को बृहस्पतिवार शाम लखनऊ से एयर लिफ्ट कर दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती किया गया था. अस्पताल के सूत्रों ने बताया कि पीड़िता 90 फीसदी तक गंभीर रूप से जली हुई थी।

हर पल बिगड़ती गई उन्नाव की बिटिया की हालत, और जिंदगी की जंग हार गई बेटी

वही दिल्ली सफदरजंग अस्पताल में पी’ड़िता के लिए अलग से आईसीयू कक्ष बनाया गया था और डॉक्टरों की एक टीम लगातार उसकी निगरानी भी कर रही थी. बर्न एंड प्लास्टिक सर्जरी विभाग के प्रमुख डॉ. शलभ कुमार खुद पी’ड़िता की स्थिति पर नजर बनाए हुए थे।

आपको बता दें उत्तर प्रदेश के उन्नाव में एक दु’ष्क’र्म पी’ड़िता को आरो’पियों ने जिं’दा ज’ला कर मा’रने की कोशिश की थी. लड़की को गंभी’र हालात में लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया था और बाद में एयर लिफ्ट कर दिल्ली लाया गया था।

लड़की उन्नाव की रहने वाली है। जिसके साथ रायबरेली में दु’ष्क’र्म हुआ था, और वहीं पर केस चल रहा है. जब गुरुवार सुबह वह केस की सुनवाई के लिए रायबरेली के लिए घर से निकली तो आरोपी ने अपने साथियों के साथ उसके ऊपर केरो’सि’न छिड़ककर आ’ग लगा दी. पी’ड़िता ने पांच आरो’पियों के नाम बताए हैं।

अब इस मामले पर दिल्ली महिला आयोग (DCW) की प्रमुख, स्वाति मालीवाल ने रात को उन्नाव दु’ष्क’र्म पी’ड़िता की मौ#त के बाद कहा है कि मैं उत्तर प्रदेश सरकार और केंद्र सरकार से अपील करती हूं कि इस मामले में ब#लात्का’ रियों को एक महीने के भीतर फां’सी दी जानी चाहिए।