कुदरत का करिश्मा: नमाज़ अदा करने के बाद मूसलाधार बारिश हुयी- बारिश के लिए पढ़ी और दुआ क़ुबूल हुयी, सारा शहर हैरान रह गया

मध्य प्रदेश के एक शहर में विशेष नामज़ के बाद पूरे जिले भर में झमाझम बारिश हुयी. आज यानी के  शुक्रवार के दिन गुना के मुस्लि’म समुदाय ने बारिश के लिए दुआ मांगी. ये दुआ नामज़ ए इस्तसका, पड़ने के बाद मांगी गयी. शहर के मुस्लि’म धर्म गुरु के अनुसार यह विशेष नमाज़ अल्लाह से बारिश रूपी नेमत मांगने के लिए अदा की जाती है, एवं इस नमाज़ के बाद बारिश के लिए खास दुआ भी की जाती है.

दोस्तों ये वाक़या है मध्य प्रदेश के गुना ज़िले का, गौरतलब है कि शहर में पिछले काफी दिनों से सावन का महीना होने के बावजूद नहीं हो रही थी पिछले कुछ दिनों से बारिश न होने की वजह से फसलें भी सूखने की कगार तक पहुंच गयीं थी. और किसान बहुत ही ज्यादा चिंता में दिखाई दे रहे थे, उमस और गर्मी से भी गांव और शहर वासियों का बुरा हाल था.

आज जुमे के दिन मस्जिदों में मशवरा करने के बाद मुस्लि’म भाइयों ने बारिश के लिए सभी मस्जिदों में एलान करवा दिया था कि जुमे की नमाज़ के बाद सभी लोग बारिश के लिए भी दुआ करेंगे. शहर काजी से बातचीत के दौरान इस बात का पता चला.

आप यकीन नहीं करेंगे जब वहां गए सारे लोगों ने नमाज पढ़ी और नमाज पढ़ने के बाद जैसे ही वह लोग दुआ पढ़कर फारिग हुए, वहां इस कदर मुसलाधार बारिश शुरू हुई जिसे देख हर कोई हैरान रह गया और मुस्लि’म समाज गुना में यह विषय खासा चर्चा में बना हुआ है.

यह वाकई में कुदरत के करिश्मे जैसा ही है जो आज देखने को मिल गया और इस बात के चश्मदीद गवाह इस पोस्ट को लिखने वाले पत्रकार भी है.

वाकई में आज यकीन हो गया की इस कुदरत को चलाने वाला कोई तो है जो एक पल में कुछ भी कर सकता है वह कहते हैं ना मेरे रब की रहमत का अंदाज़ है निराला सब कुछ देख कर भी पूछता है… है क्या कोई और मांगने वाला.

गौरतलब है कि गुना जिले में बारिश न होने से किसानों समेत सभी जिलेवासियों के माथे पे शिकन साफ देखी जा रही है, लिहाज़ा बारिश न होने की इस विकट समस्या से निजात के लिए आज मुस्लि’म समुदाय के सेंकडो लोगों ने ईदगाह पहुंच कर बारिश के लिए विशेष नामज़ अदा की, और ईश्वर से बारिश की दुआ भी की.

वहीं इस नामज़ के तुरंत बाद आसमान में बादल छा गए और शाम होते होते बारिश भी हो गई, जिससे शहरवासियों ने राहत की सांस ली है.