पंजाब & महाराष्ट्र बैंक डूबने के पीछे बीजेपी नेता से जुड़ रहे हैं तार, HDIL प्रमोटर्स का भी हाथ

पंजाब & महाराष्ट्र बैंक डूबने के पीछे बीजेपी नेता से जुड़ रहे हैं तार, HDIL प्रमोटर्स का भी हाथ

PMC Bank अभी काफी सुर्ख़ियों में बना हुआ है, उसके बर्बाद होने में कई सारे तर्क पेश किये जा रहे हैं लेकिन जांच के मुताबिक़ अभी हाल ही में यह पता चला है कि PMC बैंक डूबने में HDIL प्रमोटर्स का हाथ है| आपको बता दें कि बैंक के डूबने की वजह से आरबीआई ने पंजाब एंड महाराष्ट्र कॉ-ऑपरेटिव यानि PMC बैंक पर 6 माह के लिए ऑपरेश्नल प्रतिबंध लगा दिया है। इस अवधि के दौरान बैंक किसी को लोन भी नहीं दे सकेगा और बैंक के खाताधारक इस अवधि के दौरान बैंक से सिर्फ 10,000 रुपए ही निकाल सकेंगे।

जानकारी मिली है कि पीएमसी बैंक का कॉरपोरेट ऑफिस मुंबई में भानदुप स्टेशन के नजदीक बनी बिल्डिंग ड्रीम्स मॉल में स्थित है। जिस बिल्डिंग में पीएमसी बैंक का ऑफिस है, उसे वाधवा द्वारा प्रमोटेड हाउसिंग डेवलेपमेंट इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड HDIL द्वारा विकसित किया गया है। हालांकि बैंक और HDIL कंपनी के बीच का संबंध इससे भी आगे का है।

आपको बता दें कि पीएमसी बैंक, कंपनी के लिए इन-हाउस बैंकर के रुप में काम कर रहा था और जानकारी के मुताबिक़ HDIL कंपनी इन दिनों नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल NCLT के सामने दिवालिया प्रक्रिया का सामना कर रही है। पीएमसी बैंक के चेयरमैन वर्यम सिंह 9 साल एचडीआईएल कंपनी के बोर्ड में शामिल रहे हैं। उन्होंने साल 2015 में निदेशक पद से इस्तीफा दिया था।

इसके साथ ही कंपनी की वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक़, वर्यम सिंह के साल 2015 में HDIL कंपनी में 1.91 प्रतिशत शेयर भी थे। वहीं दीवान हाउसिंग फाइनेंस DHFL के चेयरमैन रहे राजेश वाधवा भी पीएमसी बैंक के बोर्ड में शामिल रह चुके हैं, लेकिन खास बात ये है कि जब HDIL कंपनी दिवालिया प्रक्रिया का सामना कर रही थी, उस दौरान पीएमसी बैंक द्वारा कंपनी को 96.50 करोड़ रुपए का लोन दिया गया था।

हालांकि बैंक के एमडी जॉय थॉमस का कहना है कि बैंक के पास राकेश वाधवा के बेटे और एचडीआईएल कंपनी के वाइस चेयरमैन और एमडी सारंग वाधवा की निजी गारंटी के साथ ही जमानत राशि पर्याप्त मात्रा में जमा है। बैंक की वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक़, बैंक ने रियल एस्टेट, कंस्ट्रक्शन बिजनेस और हाउसिंग के लिए 984.69 करोड़ रुपए का एडवांस दिया है।

वहीँ दूसरी ओर बैंक सूत्रों के मुताबिक़, एक्सपोजर इससे कहीं ज्यादा करीब 1500-2500 करोड़ होने का अनुमान है। साथ ही आरबीआई द्वारा पीएमसी बैंक पर प्रतिबंध लगाने के बाद इस धांधली के तार अब भाजपा नेताओं के साथ भी जुड़ रहे हैं|

दरअसल आपको बता दें कि बैंक के एक निदेशक रजनीत सिंह, बैंक में सह-निदेशक के पद पर हैं और मुंबई के मुलुंड से 4 बार भाजपा विधायक रह चुके हैं। रजनीत खुद भी भाजपा के सदस्य हैं और आगामी विधानसभा चुनावों में टिकट पाने के दावेदार भी हैं।

बता दें कि रजनीत सिंह के अलावा बैंक के 12 अन्य निदेशकों का भी भाजपा से जुड़ाव बताया जा रहा है। हालांकि रजनीत सिंह का कहना है कि बैंक में हुई गड़बड़ के साथ उनका कोई लेना-देना नहीं है।

साभारः #Jansatta

Leave a comment