विडियो: हुज़ूर (स.अ.व.) और हिरनी का कलाम, बेहद दिलचस्प हदीस सबको शेयर करें

आज का ये किस्सा हुज़ूर के ज़माने के वक़्त से ही मशहूर किस्सों में से एक है| आईशा रदी अल्लाहू अन्हा के अनुसार ये रिवायत मिलती है कि मैने एक रात अल्लाह के रसूल हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैह वसल्लम को बिस्तर पर मौजूद नहीं पाया तो में उनको इधर उधर ढूँढने में लग गयी| उस वक़्त घर में अन्धेरा हो रहा था और अचानक मेरा हाथ आप के क़दमो के तलवों पर जा लगा, तो एहसास हुआ कि आप के दोनो पाँव खड़े हुए थे (मतलब आप उस वक़्त सजदे की हालत में थे) और अल्लाह के रसूल उस दौरान ये दुआ पढ़ रहे थे| दुआ नीचे दी गयी है आप देखें|

اللَّهُمَّ إِنِّي أَعُوذُ بِرِضَاكَ مِنْ سَخَطِكَ
وَبِمُعَافَاتِكَ مِنْ عُقُوبَتِكَ
وَأَعُوذُ بِكَ مِنْكَ
لاَ أُحْصِي ثَنَاءً عَلَيْكَ
أَنْتَ كَمَا أَثْنَيْتَ عَلَى نَفْسِكَ

हिरनी का अल्लाह के रसूल से कलाम करना

ये वाकया है एक हिरनी और अल्लाह के रसूल हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैह वसल्लम का, एक हिरनी ने नबी ए करीम से अपने बच्चे को दूध पिलाने के लिए अपने बंधन खोल देने की बात कही थी| आपको बता दें की यह एक हदीस भी है और इसको कई लोगों ने आलिमों ने अपनी अपनी तरह से इसको बयान किया है| अगर कहीं फर्क नज़र आये तो इसको झूठा न समझें|

हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैह वसल्लम का एक हिरनी के करीब से गुज़ारना हुआ जो उस वक़्त एक खेमे के साथ बंधी हुयी थी| जब हिरनी ने आपको देखा तो तो उस हिरनी ने आपसे कहा कि या रसूलल्लाह मुझे खोल दें मेरे दो बच्चे है और वो भूखे होंगे, आप मुझे खोल दें ताकि में अपने भूखे बच्चों को दूध पिलाकर आ जाउंगी|

इस शिकारी ने मुझे शिकार किया है और मुझे यहाँ इस तरह से बाँधा हुआ है, लेकिन मेरे बच्चों का मेरे दूध पर हक़ है और में आपसे वादा करती हूँ में वापिस बहुत जल्द लौट कर आउंगी, और फिर आप मुझे बाँध देना जिस तरह से में अभी बंधी हुयी हूँ|

हिरनी की बात सुनकर हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैह वसल्लम ने फरमाया कि तुम लोगों कि शिकार करदा हो, और लोगों की बाँधी हुयी हो| लेकिन बार बार उसके मिन्नतें करने पर हुज़ूर ने उस हिरनी से ये वादा लिया कि वो अपने बच्चों को दूध पिलाकर लौटकर आयेगी| आपको बता दें की हुज़ूर हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैह वसल्लम कई तरह के जानवरों की भाषा समझ सकते थे| और उसके मिन्नतें करने पर आपने उस हिरनी को खोल दिया|

फिर इसके बाद वो हिरनी अपने भूख से बिलख रहे बच्चों के पास पहुंची और उनको दूध पिलाया और फ़ौरन की वो अपने उस जगह पर वापिस लौट आई जहाँ से हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैह वसल्लम ने उसको खोला था| आपने देखा कि उसके थनों में जो दूध भरा हुआ था वो खाली हो चुका था| इसके बाद आपने उस हिरनी को उसी जगह पर बाँध दिया जहाँ वो पहले बंधी हुयी थी|

इसके बाद आप हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैह वसल्लम उस खेमे के मालिक के पास गए तो आपने उससे कहा कि इस हिरनी को रिहा करदो तो उस खेमे के मालिक ने उस हिरनी को हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैह वसल्लम के कहने पर फ़ौरन ही रिहा कर दिया| और वो हिरनी वहां से अपने बच्चों के पास से चली गयी|

इसके बाद आपने उस खेमे के मालिक से कहा कि अगर ये जानवर है जो मौत के बारे में इतना जानते जितना तुम लोग  जानते हो तो कभी इस क़दर जानवरों में से न खा सकते| नीचे विडियो दिया गया है इसको सुन लेंगे तो और भी समझने में आपको आसानी होगी| अपने दोस्तों के साथ इसको शेयर करना न भूलें दोस्तों| और हमारा फेसबुक पेज ज़रूर लाइक करें| जिससे आपको और किस्से सुनने पड़ने को मिलेंगे| शुक्रिया !