तेलंगाना केसीआर ने मोहम्मद महमूद को सौंपी गृह मंत्रालय की बड़ी ज़िम्मेदारी, अपने साथ दिलवाई शपथ

नई दिल्ली: तेलंगाना के मुख्यमंत्री और तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के अध्यक्ष चंद्रशेखर ने गुरुवार को तेलंगाना के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन ने तेलंगाना राष्ट्र समिति के नेता को शपथ ग्रहण समारोह में पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। केसीआर यह दूसरा कार्यकाल है।

गुरुवार की रात मुख्यमंत्री के कार्यालय के एक बयान के अनुसार, केसीआर ने उन्हें होम पोर्टफोलियो आवंटित किया है। अली केसीआर के पिछले कैबिनेट में राजस्व पोर्टफोलियो देख रहे थे।अभी ये बात स्पष्ट नही होपाई है कि क्या अली अब इस नई सरकार में उपमुख्यमंत्री रहेंगे या नही।

गृहमंत्रालय किसी भी राज्य के लिये बहुत ही महत्वपूर्ण मंत्रालय माना जाता है ,टीआरएस सरकार की पहली अवधि के दौरान नयन नारसिम्हा रेड्डी गृहमंत्री थे।

66 वर्षीय मोहम्मद महमूद अली 2001 से तेलंगाना की माँगों को लेकर चन्द्रशेखर राव के आंदोलन में उनके साथ रहे है,इसी कारण से चन्द्रशेखर राव उनकी वफादारी के बदले उन्हें नवाज़ते रहते हैं।

चन्द्रशेखर राव ने अपनी पहली सरकार में एक मुस्लिम चेहरे के रूप में मोहम्मद महमूद अली को राज्य का उपमुख्यमंत्री बनाया था,तथा इनके अलावा एक दलित नेता को भी अपना डिप्टी बनाया था।

टीआरएस के नेताओं का कहना है कि कैबिनेट में दूसरों को शामिल करने से पहले केसीआर ने अली को मुस्लिम समुदाय से जोड़ रहे महत्व को रेखांकित किया। उन्होंने पहली अवधि के दौरान अल्पसंख्यकों के कल्याण के पोर्टफोलियो को रखा।

केसीआर की एक दोस्ताना पार्टी (एआईएमआईएम) ने हैदराबाद में आठ निर्वाचन क्षेत्रों को छोड़कर टीआरएस को समर्थन दिया, जहां उसने अपने उम्मीदवारों को मैदान में रखा। कई अन्य मुस्लिम संगठनों ने भी टीआरएस का समर्थन किया, जिसने 119 सदस्यीय विधानसभा में 88 सीटें जीतीं।

टीआरएस प्रमुख ने एआईएमआईएम को सरकार में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया था लेकिन पार्टी ने अनुरोध को अस्वीकार कर दिया था।