हाउडी मोदी कार्यक्रम: स्टेडियम के अंदर मोदी का जोरदार स्वागत, बाहर सड़क पर जमकर विरो’ध

अमेरिका के शहर ह्यूस्टन के NRG स्टेडियम में हाउडी मोदी कार्यक्रम के चलते रविवार की रात भारतीय समयानुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने करीब 50,000 भारतीय अमेरिकी समुदाय के लोगों को संबोधित किया। इस दौरान उनके साथ अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प भी मौजूद थे। दोनों नेताओं ने मिलकर आतंकवाद से लड़ने का ऐलान किया है। आपको बता दें कि पीएम मोदी के स्वागत में भारतीय समुदाय के लोगों ने रंगारंग कार्यक्रम पेश किए। स्टेडियम के अंदर लोग जोश से लबरेज थे और मोदी-मोदी के नारे लगा रहे थे लेकिन वहीँ स्टेडियम के बाहर पीएम मोदी के खिला’फ हजारों लोगों ने मिलकर विरो’ध प्रदर्शन किया।

आपको बता दें कि यह विरोध प्रदर्शन करने वाले भारतीय अमेरिकी समुदाय के लोग कश्मीर में धारा 370 हटाए जाने के बाद की स्थितियों का जिक्र करते हुए मोदी पर आरोप लगा रहे थे कि कश्मीर में मानवाधिकारों का हनन हो रहा है वहाँ के लोगों को रिहा किया जाए।

बता दें कि एनआरजी स्टेडियम के बाहर सुरक्षा के भी पु’ख्ता इंतजाम किए गए थे। ह्यूस्ट’न पुलिस प्रदर्शनकारियों पर भी नजर बनाए हुई थी। इस दौरान प्रदर्शनकारी प्ले कार्ड और हा’थों में बैनर पोस्टर थामे रहे।

साथ ही विरोध करने वाले संगठन इंडियन अमेरिकन मुस्लिम काउंसिल के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने अलजजीरा से बातचीत करते हुए कहा कि पीएम मोदी के पांच साल के शासनकाल में उठाए गए कदमं से भारत का धर्म’निरपे’क्ष संविधान खतरे में आ चुका है।

इसी के साथ विरोध करने वाले दूसरे संगठन हिन्दूज फॉर ह्यूमन राइट्स HFHR ने कहा कि हिन्दू आस्था के नाम पर अलपसंख्यकों पर हमले बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे। HFHR की सह संस्थापक सुनीता विश्वनाथ ने कहा कि हमारा धर्म हमें वसुधैव कुटु’म्बक’म सिखाता है लेकिन इस पर कट्ट’रपंथि’यों और रा’ष्ट्रवादि’यों ने कब्जा कर लिया है, ये लोग मुस’लमा’नों की ह#त्या कर रहे हैं साथ ही भारत कि लोकतंत्र और क़ानून व्यवस्था को कुचल रहे हैं।

इसके बाद उन्होंने कहा कि हिंदुओं के रूप में हमें ऐसा लगता है कि भारत में हो रहे अत्याचार हिं’दू अ’तिवा’दी सरकार द्वारा हमारे प्यार विश्वास और हिंदू ध’र्म के नाम पर किया जा रहा है। ऐसे में यह हमारा पूर्ण धार्मि’क, नैतिक और मानवीय दायित्व बनता है कि हम उसके खिला’फ खड़े हों और गिनें।

सुनीता ने बात चीत में कहा कि उनकी सं’स्था कश्मीरि’यों और NRC से प्रभावित 19 लाख लोगों को लेकर चिंतित है। समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने दावा किया है कि पीएम मोदी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों में अधिकां’श धार्मि’क अलपसंख्यक थे जिनमें सिख और मुस्लि’म समुदाय के लोग शामिल थे।

आपको बता दें कि ये सभी मोदी की कश्मीर नीति का विरोध कर रहे थे। बतौर अल जजीरा पीएम मोदी के खिला’फ प्रद’र्शनकारि’यों की संख्या करीब 10 हजार थी और इन लोगों ने मीडियाकर्मियों को भी निशा’ना बनाया।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि पीएम मोदी ने अपने भाषण में कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने का भी जिक्र किया था और कहा था कि भारत में सबकुछ ठीक है साथ ही उन्होंने अपने संबोधन में आ’तंकवा#द और आर्थिक विकास पर भी चर्चा की है।

साभारः #Jansatta