जामिया-AMU पर इरफान पठान के बाद ऋतिक रोशन और आकाश चोपड़ा उतरे छात्रों के समर्थन में, कहा- इस तरह आप उन्हें भारत का…

नई दिल्लीः नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और एनआरसी (NRC) पर जारी विरोध प्रदर्शन, जामिया-AMU के छात्रों पर पुलिस द्वारा की गई बर्बर पर बॉलीवुड स्टार की चुप्पी ने फैंस को काफी नाराज कर दिया है। सोशल मीडिया यूजर्स ने तो ट्विटर पर #ShameonBollywood और #SpinelessSuperstars जैसे हैशटैग ट्रेंड करा दिए है। इसके एक दिन बाद ही अब क्रिकेट जगत से लेकर फिल्मी हस्तियां भी मौजूदा हालातों पर खुलकर बोलने लगी हैं। इस मुद्दे को लेकर क्रिकेट जगत से लेकर फिल्मी हस्तियो ने दुख जाहिर किया और जल्द से जल्द शांति कायम होने की उम्मीद की।

रितिक ने ट्वीट किया, एक पैरंट और भारत का एक नागरिक होने के नाते मैं देश के विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों में फैली अशांति से बहुत दुखी हूं। मैं आशा करता हूं और प्रार्थना भी कि जल्द से जल्द शांति कायम हो। महान अध्यापक अपने छात्रों से ही सीखते हैं। मैं दुनिया के सबसे युवा लोकतंत्र को सलाम करता हूं।

वही तेज गेंदबाज और भारतीय टीम के पूर्व खिलाड़ी इरफान पठान ने भी पुलिस ला’ठीचा’र्च में घायल जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के छात्रों को लेकर चिं’ता जताई है। ये छात्र नागरिकता संशोधन अधिनियम (CCA) के खिला’फ प्रदर्शन कर रहे थे। पठान ने ट्वीट किया, राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप का खेल हमेशा चलता रहेगा, लेकिन मैं और हमारा देश जामिया के छात्रों के लिए चिं’तित है।

वहीं चोपड़ा ने लिखा, पूरे देश में शिक्षण संस्थानों से उठ कर आ करे तस्वीरों से आहत हूं। आं’खों में आं’सू हैं। वह हम में से एक हैं। यह बच्चे हमारे देश का भ’विष्य हैं। ताकत के दम पर आवाज को दबा कर हम भारत को महान नहीं बना सकते। इससे आप सिर्फ उन्हें भारत के खिला’फ कर देंगे।

सीएए के खिलाफ विरो’ध प्रदर्शन के बाद दिल्ली पुलिस ने जामिया परिसर में प्रवेश किया। सराय जुलनिया मथुरा रोड पर स्थित इस परिसर में जब हाला’त ज्यादा गं’भी’र हो गए तो पुलिस ने परिसर में आं’सू गै’स के गो’ले छोड़े और ला’ठीचा’र्ज किया।

आपको बता दें न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में डीटीसी बस को ज’ला दिया गया, जिसके बाद पुलिस ने ला’ठीचा’र्ज किया।दिल्ली पुलिस ने हालांकि विश्वविद्यालय परिसर में घुसने की बात को नकारा है। दक्षि’ण पूर्वी दिल्ली के पुलिस कमिश्नर चिन्म’य बिस्वाल ने भी कहा है कि विरोध प्रदर्शन करने वाले लोगों को मात्र पीछे किया गया और पुलिस ने किसी तरह की फा’य’रिं’ग नहीं की।

उन्होंने कहा कि जब पुलिस वालों ने देखा कि उन पर प’त्थर बा’जी की जा रही है तो उन्होंने ऐसा करने वालों को पहचानने और उन्हें पक’ड़ने की कोशिश की।