ईद पर कुर्बानी रोकने के लिए, देशभर से बकरों को खरीद रहा है ये संगठन

ईद-उल-अज़हा में अभी दो महीने से भी अधिक का समय बचा हुआ है लेकिन इसी बीच एनिमल राइट एक्टिविस्ट नामक एक समूह ने एक बड़ा ऐलान किया है. समूह ने घोषणा की है कि वह कुर्बानी से बचाने के लिए पशु बाजार से भेड़ और बकरियों को खरीदेगा. यहीं नहीं समूह की तरफ से सूरत की पशु मंडी से अब तक करीब 100 भेड़ और बकरियों को ख़रीदा भी जा चूका हैं.

पशु गृह के संचालक समिति श्री वडोदरा पंजरापोल के सचिव राजीव शाह ने कहा कि हम न तो किसी धर्म के खिलाफ है और ना ही यह अभियान किसी धर्म के विरुद्ध चलाया जा रहा हैं. हम सिर्फ जानवरों के अधिकारों के प्रति जागरूकता फैलाना चाहते हैं.

Image Source: Google

उन्होंने आगे कहा कि हम चाहते हैं कि लोग स्वेच्छा से इस काम में शामिल हों. हम पशु प्रेमी है और इन मूक जीवों के साथ हो रहे अमानवीय व्यवहार से काफी आहत हैं. अखिल भारतीय पशु कल्याण बोर्ड के सदस्य शाह के मुताबिक समूह की योजना अन्य मंडियों से भी इसी तरह से जानवरों को खरीदने की है.

वहीं मुस्लिम समुदाय के नेताओं का कहना है कि पशु अधिकार कार्यकर्ता बकरीद के खिलाफ हमेशा से मुखर रहे हैं. भेड़ और बकरियों को खरीदने का यह कदम राज्य के कुछ इलाकों में जानवरों की उपलब्धता को प्रभावित कर सकता हैं.

मुस्लिम सोशल एक्टिविस्ट जुबेर गोपलानी ने कहा कि कुर्बानी की परंपरा पहले से ही चली आ रही है और यह एक अत्यंत निजी मसला है. ऐसे में इसका विरोध करते वक्त यह जरूरी हो जाता है कि इससे किसी अन्य समुदाय की भावनाएं आहत ना हों. इसी बीच स्थानीय पशु पालकों का कहना है कि मुस्लिम समुदाय के लोग पशुओं को स्थानीय पशुपालकों से खरीदते हैं ना कि मंडियों से.