नमाज़ को लेकर डीजीपी के आदेश पर भड़के मुस्लि’म धर्मगुरू ने कहा, अगर यूपी में सड़क पर नमाज नहीं पड़ सकते तो दुर्गापूजा और दशहरा पर भी…

प्रयागराज: उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह के सड़क पर नमाज अदा और आरती पूजा न करने के निर्देश जारी किये जिसके बाद अब इस फैसले को लेकर लोगों कि राय भी सामने आ रही हैं। इस आदेश को लेकर लोग अपनी अलग अलग राय भी दे रहे हैं जहां कई लोग इसका स्वागत कर रहे हैं तो वही कई लोग इन सब को समानता से लागू करवाने की बात कह रहे हैं।

वही प्रयागराज में पत्रकारों से बातचीत करने के दौरान मुस्लि’म धर्मगुरू मौलाना मोईन हबीबी ने प्रशासन के इस फैसले का स्वागत तो किया ही है लेकिन साथ ही साथ यह भी कहा कि सरकार और प्रशासन को किसी भी एक धर्म को लेकर ऐसे फैसले नहीं करनी चाहिए। प्रशासन का फैसला सिर्फ मुसलमा’नों को सड़क पर नमाज अदा करने से रोकन है तो ये फैसला बिलकुल गलत है और यह कानून दुर्गापूजा और दशहरा जैसे उत्सव पर भी लागू होना चाहिए।

Image Source: Google

उन्होने कहा कि हम ऐसी कोई इबादत नहीं करना चाहते जिससे आवाम को तकलीफ पहुंचे लेकिन नियम कानून सभी के लिए एक समान होने चाहिए। ये सिर्फ एक मजहब के मानने वालो पर नहीं वही मौलाना ने अपने बयान में यह भी कहा की हम सिर्फ ज्यादा लोगो की भी’ड़ होने के वजह से ही सडकों का सहारा लिया जाता है। वो भी जुमे वाले दिन बाकि दिन तो हम मस्जिद में ही नमाज़ अदा करते है।

मौलवी मोईन हबीबी ने कहा कि डीजीपी साहब को इस बात को समझना चाहिए कि यह पूरी प्रक्रिया सिर्फ 5 से 7 मिनट की होती है। अगर इतनी देर में आवाम को तकलीफों का सामना करना पड़ता है तो हमें यह आदेश मंजूर है। लेकिन इस आदेश का सही ढंग से पालन होना चाहिए यह किसी एक कौम के लिए नहीं होना चाहिए बल्कि इसको सभी के लिए जारी होना चाहिए।

उत्तर प्रदेश के DGP ओपी सिंह ने अलीगढ़ और मेरठ के साथ साथ पर पूरे प्रदेश में सड़कों पर नमाज पढ़ने या आरती करने पर रोक लगाने की मांग की है। DGP का कहना है कि हम सार्वजनि’क जगहों पर लोगों को ऐसा कुछ नहीं करने देंगे जिससे लोगों को परेशानी हो। डीजीपी ने स्‍वतंत्रता दिवस और कश्‍मीर में अनुच्‍छेद 370 हटाने के बाद पैदा हुए हाला’तों को देखते हुए उत्तर प्रदेश में सि’क्‍युरि’टी अलर्ट’ का आदेश भी जारी किया है।