हर विषय में होनहार व टॉपर थी IIT-Madras की छात्रा फातिमा, मुस्लि’म होकर भी टॉप करती थी, इसलिए होता था उ’त्पीड़न

आईआईटी मद्रास में ह्यू’मैनिटी’ज एंड डिवेलपमेंट स्टडीज इंटीग्रेटेड में एमए फस्र्ट ईयर की छात्रा फातिमा लतीफ की कथित आ’त्मह#त्या मामले के तीन दिन बाद उसके माता-पिता ने मंगलवार को केरल के सीएम पिनरई विजयन से इंसाफ की गुहार लगाई है। उन्होंने केरल सरकार को एक याचिका सौंपी है जिसमें उन्होंने अपनी बेटी की मौ’त की मामले की जांच में तमिलनाडु सरकार के हस्तक्षेप की मांग की है। आईआईटी मद्रास में ह्यूमनिटीज डिपार्टमेंट के विद्यार्थी और प्रोफेसरों समेत पूरा डिपार्टमेंट इस संशय में है कि आखिर फातिमा की मौ’त कैसे और क्यों हुई।

आपको बता दें शनिवार सुबह फातिमा अपने हॉस्टल के कमरे में मृ’त मिली थी। उसने फां’सी लगा ली थी। केरल के कोल्लम से ताल्लुक रखने वाली फातिमा ह्यूमैनिटीज एंड डिवेलपमेंट स्टडीज इंटीग्रेटेड सब्जेक्ट में एमए फस्र्ट ईयर की छात्रा थी। टीचर्स का कहना है कि वह काफी होनहार छात्रा थी और क्लास टॉपर भी थी।

होनहार बेटी के आ’त्मह’त्या के कदम उठाने के बाद पिता अब्दुल लतीफ ने बताया कि इस मामले में पुलिस ने सुसाइड का मामला दर्ज किया है। साथ ही दावा किया है कि फातिमा के कमरे से कोई भी सुसाइड नोट नहीं मिला। अब्दुल ने इस मामले में पीएम मोदी को भी याचिका भेजी है और इंसाफ दिलाने की गुहार लगाई है।

वही फातिमा के फोन में लिखे एक नोट का जिक्र करते हुए एक शिक्षक का नाम भी लिया है। अब्दुल ने बताया कि फातिमा के नोट में एक प्रोफेसर का नाम लिखा है, जो उसकी मौ$त का कारण हो सकता है। पुलिस ने छात्रा का मोबाइल जांच के लिए भेज दिया है। हालांकि, संबंधित प्रोफेसर से इस मामले में बात नहीं हो सकी।

आईआईटी मद्रास के ह्यू’मैनिटी’ज विभाग के हेड उमाकांत दास के अनुसार सभी प्रोफेसर्स व स्टूडेंट्स के साथ-साथ पूरा विभाग इस मामले को लेकर हैरा’न है। कोई नहीं जानता है कि आखिर फातिमा ने अपनी जा’न क्यों दे दी? पिता अब्दुल ने बताया कि फातिमा ने कभी ऐसी कोई बात या हरकत नहीं की, जिससे लगे कि वह सु’साइ’ड कर लेगी।

इसकी की सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंचे पुलिस ने छा’नबी’न के बाद बताया कि फातिमा किसी चीज को लेकर परेशान थी। हालांकि उसने किसी से कुछ भी बताया कि वह किस वजह से तनाव में है लेकिन आ’त्मह#त्या का कारण आ’त्मह’त्या बताया गया था।

बताया जा रहा है कि फातिमा रोजाना रात करीब 9 बजे मेस हॉल में बैठकर रोती थी। पुलिस से सीसीटीवी फुटेज चेक करने की डिमांड की गई है। अब्दुल का कहना है कि फातिमा ने पिछले आईआईटी एंट्रेंस एग्जाम में नेशनल लेवल पर सबसे ज्यादा स्कोर किया था।

उन्होंने आरोप लगाया कि फातिमा की मौ#त के बाद उसके विभाग ने अगले 45 दिन के लिए क्लासेज सस्पेंड कर दी हैं। साथ ही, दिसंबर में होने वाली परीक्षाएं भी टाल दी हैं। इसके अलावा विद्यार्थि’यों को घर लौट जाने के लिए कहा गया है।