पैग़म्बर हज़रत मोहम्मद साहब की शान में हो रही गुस्ताखी को रोकने को लेकर OIC में उठी मांग

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने इस्लामिक देशों के समूह ऑर्गनाइज़ेशन ऑफ़ इस्लामिक कंट्रीज़ यानी ओआईसी के राष्ट्राध्यक्षों की 14वीं इस्लामिक कॉन्फ़्रेंस के दौरान हुजूर की शान में हो रही गुस्ताखी का मुद्दा उठाया. उन्होंने इसे लेकर ओआईसी की और से उठाए जा रहे कदमों को नाकाफी करार दिया और कुछ बड़े कदम उठाने की मांग की.

इमरान ने कहा कि अगर किसी के द्वारा इस्लाम के आख़िरी पैग़म्बर हज़रत मोहम्मद साहब का अपमान किया जाता है तो यह हमारी नाकामी है. इमरान ने कहा कि मुस्लिम समुदाय के विश्वस्तरीय फ़ोरम के तौर पर ओआईसी को मुसलमानों के अधिकार और उनकी धार्मिक भावनाओं की सुरक्षा हेतु प्रभावी किरदार निभाना चाहिए.

imran khan
Image Source: Google

आतं’कवा’द को इस्लाम से जोड़े जाने पर गुस्सा जाहिर करते हुए उन्होने कहा कि 9/11 के बाद कश्मीर और फ़लस्तीन की जायज़ जद्दोजहद को इस्लामी अतिवाद और दहशतगर्दी के साथ जोड़ा जाना लगा है जबकि 9/11 से पहले 80 फ़ीसदी से ज़्यादा आ’त्मघा’ती ह’मले ग़ैर-मुस्लिम चरम’पंथी करते थे.

उन्होंने कहा कि तमिल छापामारों के ह’म’ले को तो किसी ने हिंदू मज़हब के साथ नहीं जोड़ा क्योंकि ये भी एक राजनीतिक लड़ाई थी. वहीं इसी बीच जल्द ही शंघाई कोऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन (SCO) शिखर सम्मेलन आयोजित होने वाला हैं.

Organisation of Islamic Cooperation
Image Source: Google

पिछले काफी समय से कयास लगाए जा रहे थे कि शंघाई कोऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन (SCO) शिखर सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तान के पीएम इमरान खान के बीच अनौपचारिक बातचीत हो सकती है. किर्गिस्तान के शहर बिशेकेक में 13 और 14 जून को SCO का यह शिखर सम्मेलन होने वाला है.

लेकिन अब भारत की और से साफ कर दिया गया है कि सम्मेलन के दौरान भारत और पाकिस्तान के बीच कोई द्विपक्षीय बातचीत नहीं होगी. सोमवार को विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता राजीव कुमार ने बताया कि दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय वार्ता की कोई संभावना नहीं है.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *