VIDEO: अयोध्या में साधु ने बोली जबरदस्त उर्दू, एंकर ने की तारीफ तो कहा- में हिन्दू हूँ मैं ब्राह्मण हूँ लेकिन मैं कुरान पढ़ता हूं

अयोध्या: सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को अयोध्या मामले पर अपना फैसला सुना दिया है। लगातार 40 दिन तक चली सुनवाई के बाद पांच जजों की बेंच ने फैसला सुरक्षित रख लिया था. आज ही प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने इस व्यवस्था के साथ ही राजनीतिक दृ’ष्टि से बेहद सं’वेदनशी’ल 134 साल से भी अधिक पुराने इस मामले का पटाक्षेप कर दिया। वही इस फैसले के मद्देनजर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों को सतर्क रहने की हिदायत दी है। साथ ही अयोध्या में धारा 144 लागू है और अर्धसैनिक बलों के 4000 जवानों को तैनात किया गया है।

बता दें सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले पर अपना फैसला सुनते हुए कहा है कि रामजन्मभूमि कोई व्यक्ति नहीं है, जो कानून के दायरे में आता हो। अदालत ने कहा कि आस्था के आधार पर फैसले नहीं लिए जा सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि राम मंदिर विवादित जमीन पर ही बनेगा और मुस्लि’म पक्ष को अयोध्या में अलग से 5 एकड़ जमीन दी जाएगी।

आपको बता दें कि मंदिर का निर्माण 02.77 एकड़ जमीन पर होगा और इसके लिए ट्रस्ट बनाकर सरकार मंदिर निर्माण करवाया जाए। इसके लिए तीन महीने में योजना तैयार की जाए। बता दें इस मुद्दे पर टीवी9 भारतवर्ष ने अयोध्या में एक लाइव डिबेट कार्यक्रम रखा जब एंकर ने एक साधु से अयोध्या के फैसले को लेकर सवाल जवाब किए तो उन्होंने उर्दू भाषा के जरिए जवाब दिया।

जब साधु सवाल का जवाब सुनकर एंकर ने उनकी तारीफ की तो उन्होंने बताया कि वह कुरान भी पढ़ते हैं। इसके बाद वहां मौजूदा मौलाना सहित डिवेट का हिस्स बने लोग ताली बजाने लगे। दरअसल कार्यक्रम के दौरान एंकर साधु से पूछती हैं कि क्या आपको लगता है कि इस विवाद पर पहले फाइनल फैसला आ जाता तो राज्य में विकास और ज्यादा होता?

 

एंकर के इस सवाल पर साधु उर्दू में जवाब देते हैं। वह कहते है देखिए मुसलमा’न भाइयों के लिए तो राम जी ने अपनी जा’न दिया है। इसी लिए उनके पावन महीने का नाम रमजान का महीना है। इसलिए हम सभी एक हैं। इसके बाद साधु उर्दू भाषा के जरिए अपनी बात रखते हैं। एंकर साधु को उर्दू बोलते हुए सुनकर हैरान हो जाती हैं और तुरंत पूछती हैं आप इतनी अच्छी उर्दू कैसे बोल लेते हैं?

तो इसपर साधु कहते हैं मैं हिंदू हूं, मैं ब्राह्मण हूं और मैं कुरान पढ़ता हूं। किसी को गुरुद्वारा चाहिए किसी को मस्जिद चाहिए लेकिन हमें तो सिर्फ हमारे राम चाहिए। साधु के उर्दू प्रेम और कुरान की जानकारी को सुनकर मौलाना सहित वहां मौजूद भीड़ भी जोर-जोरी से तालियां बजाने लगती है।