भारत के 5 सबसे ज्यादा मुसलमान आबादी वाले राज्य

भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है, भारत का संविधान हर धर्म के लोगों को अपने धर्म के अनुसार चलने और जीने की आजादी देता है. भारत एक बहुत ही प्यारा देश है जहां के लोग बहुत प्रेम और सद्भावना के साथ अपनी जिंदगी गुजारते हैं. भारत में अन्य देशों के मुकाबले काफी प्रेम और भाईचारा देखने को मिलता है. अगर देश की आबादी पर एक नजर डाली जाए तो देश में २०११ की जनगणना के अनुसार देश में कुल आबादी करीबन 125 करोड़ हैं. अगर हम इसमें से मुस्लिमों की बात करें तो 2011 के आंकड़ों के अनुसार देश में लगभग 14 फीसदी मुस्लिम आबादी है.

मुस्लिमों की आबादी की बात करें तो यह देश के सभी राज्यों में एक जैसी नहीं है कई राज्यों में मुस्लिम वहां का मुख्य समुदाय है तो कहीं राज्यों में मुस्लिमों की तादात न के बराबर भी है. आज हम आपको देश के कुछ ऐसे राज्यों के बारे में बताने जा रहे है जो मुस्लिम बहुल राज्य है और यहां का मुख्य समुदाय मुस्लिम है.

Image Source: Google

लक्षद्वीप

लक्षद्वीप एक केंद्र शासित प्रदेश है. यहां की कुल आबादी में मुसलमानों की आबादी लगभग 96 प्रतिशत के करीब है. यानि की यहां पर रहने वाले ज्यादातर लोग मुस्लिम समुदाय के है. इस राज्य के मुस्लिम मछली के व्यापार के साथ जुड़े हुए हैं. वहीं अगर यहां के लोगों की शिक्षा की बात की जाए तो यहां शिक्षित लोगो की मात्रा करीब 93 प्रतिशत है जो कि केरल से भी अधिक है.

जम्मू कश्मीर

जम्मू कश्मीर में मुस्लिम समुदाय की आबादी 68 प्रतिशत से भी ज्यादा है. वहीं अगर इसमें पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर को भी मिला लिया जाए तो यहां पर मुसलमानों की आबादी 85 प्रतिशत से भी अधिक हो जाती हैं.

असम

असम में भी मुस्लिमों की आबादी अच्छी खासी है और यह कुल आबादी के लगभग 34 प्रतिशत के आसपास है. असम में निवास करने वाले मुसलमान आसामी समुदाय से आते है इसके आलावा यहां पर काफी मुसलमान बंगाली समुदाय के भी रहते है.

Image Source: Google

पश्चिम बंगाल

पश्चिम बंगाल में भी मुस्लिम समुदाय के आबादी अच्छी खासी है. यहां पर मुसलमानों की आबादी करीब 27 प्रतिशत है. बंगाल में मालदा, मुर्शिदाबाद में मुस्लिम आबादी काफी अच्छी है इसके आलावा कोलकाता, हावड़ा में भी मुसलमानों की आबादी काफी अच्छी मानी जाती है.

केरल

केरल में मुसलमानों की आबादी करीब 26 प्रतिशत से भी अधिक है. पहली बार इस्लाम धर्म अरब व्यापारियों केरल के जरिए ही भारत में आए थे. माना जाता है कि भारत में पहली मस्जिद भी केरल में ही बनाई गई थी.