उन्नाव केस में कुलदीप सेंगर के बाद एक और BJP के नेता का नाम आया सामने, यूपी की सियासत में हड़कंप

लखनऊ: रायबरेली में 28 जुलाई को कुलदीप सिंह सेंगर पर दु’ष्क’र्म का आरोप लगाने वाली पीड़िता की कार को एक ट्रक ने इस तरह टक्कर मारी कि पीड़िता की चाची और मौसी की मौ’त हो चुकी है जबकि पीड़िता और उनके वकील फ़िलहाल लाइफ़ सपोर्ट सिस्टम पर हैं. इस मामले पर विपक्षी पार्टियां सड़क से लेकर संसद तक में सवाल उठा रही हैं। की तीन दिन पहले हुए सड़क हाद’से में गंभीर रूप से घायल होने के बाद से जिंदगी और मौ’त के बीच झूल रही है और
कुलदीप सिंह सेंगर जेल में हैं लेकिन जेल में रहने से उनके रसूख में कहीं से कोई कमी आई हो आखिर बीजेपी करना क्या च रही है।

सबसे बड़ा सवाल तो हादसे के बाद यही उठ रहा है कि इस मामले में पीड़िता के साथ मौजूद सुरक्षाकर्मी उस दिन कहां ग़ायब थे, इस सवाल का कोई ठोस जवाब ना देने के बाद हादसे के बाद जब यूपी पुलिस के मुखिया ओम प्रकाश सिंह जब मीडिया के सामने आते हैं तो कहते हैं प्रथम दृष्टया ये मामला ओवरस्पीडिंग का लगता है।

Image Source: Google

यूपी पुलिस के मुखिया ओपी सिंह अपने बयान में जिस मासूमियत से ये कहते नजर आते हैं उससे उनका वो चेहरा तत्काल याद आता है जब ठीक 15 महीने पहले उनका विभाग कुलदीप सिंह सेंगर को गिरफ्तार नहीं करने की वजहें बता रहा था. वे खुद कह रहे थे कि माननीय विधायक जी पर तो अभी आरोप ही लगे हैं।

वही अब इस मामले में अब एक नया मोड़ सामने आ गया है. पुलिस शिकायत में अब मामले में बीजेपी के एक और नेता के शामिल होने की बात सामने आई है. यूपी के रायबरेली में दु’ष्क’र्म पीड़िता के कार को उल्टी दिशा से आ रही ट्रक ने सामने से टक्कर मार दी थी ट्रक का नंबर प्लेट भी मिटा हुआ था. दु’ष्क’र्म पीड़िता के चाचा द्वारा की तरफ से दर्ज कराई गई एफआईआर में दु’ष्क’र्म के आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर को हादसे के लिए जिम्मेदार ठहराया गया था।

Image Source: Google

एफआईआर में दर्ज आरोपियों के नामों के करीब से जांच करने पर पता चला है कि एक और बीजेपी नेता दुर्घटना में आरोपी है। पीड़िता के चाचा की तरफ से दर्ज कराए गए एफआईआर में आरोपी नंबर-7 अरुण सिंह है जो बीजेपी कार्यकर्ता है और उन्नाव में एक ब्लॉग का अध्यक्ष है. अरुण सिंह आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर का करीबी बताया जा रहा है।

2019 लोकसभा चुनाव के प्रचार के दौरान अरुण सिंह को बीजेपी प्रमुख अमित शाह और उन्नाव से बीजेपी सांसद साक्षी महाराज जैसे शीर्ष नेताओं के साथ फोटो और वीडियो में देखा जा सकता है। वही रणवेंद्र सिंह ने कहा, सीबीआई मामले की जांच कर रही है जांच में सब कुछ स्पष्ट हो जाएगा वह मेरे रिश्तेदार हैं इसमें कोई शक नहीं है।

पीड़िता का आरोप है कि कुलदीप सिंह सेंगर और उसके सहायकों ने वर्ष 2017 में उसके साथ दु’ष्क’र्म किया था, जब वह उनके पास नौकरी मांगने गई थी. उसने अपने आरोप अप्रैल 2018 में सार्वजनिक किए थे जब उसने धमकी दी कि अगर पुलिस ने उसका केस दर्ज नहीं किया, तो वह लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास के बाहर आ’त्मह$त्या कर लेगी।