VIDEO: पीएमसी बैंक, पीएम मोदी के बाद अब आरबीआई ने दूसरी बार की नोटबंदी, ग्राहकों के लिए कैश निकालने की बढ़ाई लिमिट-

VIDEO: पीएमसी बैंक, पीएम मोदी के बाद अब आरबीआई ने दूसरी बार की नोटबंदी, ग्राहकों के लिए कैश निकालने की बढ़ाई लिमिट-

अभी अभी खबर मिली है कि भारतीय रिजर्व बैंक RBI ने सहकारी बैंक पंजाब एंड महाराष्ट्र को-आपरेटिव बैंक पीएमसी के जमाकर्ताओं के लिए कैश निकालने की लिमिट बढ़ा दी है| खबर आयी है कि अब खता धारक बैंक से 10,000 हजार रुपये निकाल सकेंगे| आरबीआई ने मंगलवार को आर्थिक संकट से जूझ रहे पीएमसी बैंक पर सख्त कार्रवाई करते हुए खाताधारकों के अगले 6 महीने तक 1,000 रुपये से ज्यादा की निकासी पर प्रतिबंध लगाया दिया था| इसके दो दिन बाद गुरुवार को आरबीआई ने इस प्रतिबंध में थोड़ी ढील दी है|

RBI की नयी घोषणा के मुताबिक़ अब 6 महीने तक पीएमसी बैंक के ग्राहक 1,000 रुपये के बजाय अधिकतम 10,000 रुपये तक की निकासी कर सकते हैं पहले यह 6 महीनों में 1 हज़ार था जिसको बड़ा कर अब 10 हज़ार कर दिया है|

आपको बता दें कि यह नियम पीएमसी बैंक के सभी बचत, चालू और अन्य जमा खातों पर लागू होते है| हालांकि, इससे आरबीआई के पूर्व के फैसले से परेशान पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक के ग्राहकों को थोड़ी राहत जरूर मिली है|

रिपोर्ट्स के मुताबिक़ आरबीआई द्वारा पीएमसी बैंक खाताधारकों की राशि की निकासी की सीमा बढ़ाने का फायदा बैंक के करीब 60 प्रतिशत ग्राहकों को मिल पाएगा क्यूंकि बैंक के आधे से ज्यादा खाते ऐसे हैं जिनमें 10,000 रुपये या इससे कम की राशि जमा है| इस वजह से ये खाताधारक अपने खाते में रखी पूरी राशि एक बार में निकाल सकेंगे|

इसी के चलते आरबीआई ने पीएमसी बैंक के सभी प्रमुख डिफॉल्डर खातों को सस्पेंड कर दिया है| अब रिजर्व बैंक की अनुमति के बिना पीएमसी बैंक अगले 6 महीने तक किसी भी प्रकार का कोई लोन नहीं दे सकता है|

साथ ही पंजाब एंड महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक के एमडी जॉय थोमस ने बताया कि बैंक का एनपीए बढ़ गया है, जिस की वजह से पीएमसी बैंक आरबीआई के नियमों पर खरा नहीं उतर पा रहा है, इसलिए रिजर्व बैंक ने पीएमसी बैंक पर यह सारे प्रतिबंध लगाया है|

वहीं दूसरी ओर एक दिन पहले एक अंग्रेजी अखबार ने यह खुलासा किया था कि पीएसी बैंक ने रियल एस्टेट कंपनी एचडीआईएल को 2500 करोड़ रुपये का लोन दिया था| एचडीआईएल का यह लोन डिफॉल्ट घोषित हो गया, बैंक लोन की राशि रिकवर करने में कामयाब नहीं रहा, जिससे एनपीए बढ़ गया और पीएमसी बैंक में आर्थिक संकट के हालात पैदा हो गए हैं|

हालांकि एक्सपर्ट्स का मानना है कि पीएमसी बैंक पूरी तरह नहीं डूबा है, कुछ महीनों बाद फिर से हालात सुधरेंगे और बैंक की आर्थिक स्थिति पटरी पर आ जाएगी|

साभारः #LiveHindustan

Leave a comment