कश्मीर मामले पर तुर्की और भारत में बढ़ा तना'व, तुर्की जानेवालों के लिए भारत सरकार ने जारी किया एडवाइज़र

कश्मीर मामले पर तुर्की और भारत में बढ़ा तना’व, तुर्की जानेवालों के लिए भारत सरकार ने जारी किया एडवाइज़र

नई दिल्ली: भारत और तुर्की के रिश्तों के बीच इन दिनों कुछ खटास नज़र आ ही है, भारत सरकार की तरफ तुर्की जाने वाले नागरिकों के लिये एडवाइजरी जारी की है। जिसमें उनसे अत्यंत सावधानी बरतने का अनुरोध किया गया है। तुर्की और सीरिया के बीच चल रहे विवा’द और जम्मू-कश्मीर के मसले पर तुर्की के रुख के बीच ये एडवाइजरी जारी की गई है।

आपको बता दें तुर्की में मौजूद भारतीय दूतावास ने एक एडवाइज़री जारी की जिसमे लिखा गया है, भारत सरकार के पास लगातार तुर्की में यात्रा करने को लेकर सवाल किए जा रहे थे, तुर्की के ताजा हाला’तों को देखते हुए लोग काफी चिंति’त लग रहे हैं. हालांकि इस तरह की कोई रिपोर्ट सामने नहीं आई है जिसमें किसी भारतीय नागरिक को नुकसान हुआ हो फिर भी कोई भी यात्री तुर्की यात्रा करते हुए अत्यंत सतर्कता बरते।

दूतावास के द्वारा एक हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया गया है और किसी भी स्थिति में उनसे संपर्क करने को कहा गया है. भारत की इस एडवाइज़री से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अपना तुर्की का दौरा रद्द कर दिया है. पीएम मोदी को इसी महीने के आखिर में सऊदी अरब के बाद तुर्की जाना था, लेकिन बाद में ये दौरा रद्द हो गया।

आपको बता दें कि तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगान ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में जम्मू-कश्मीर के मसले पर बयान दिया था जिसमे वो पाकिस्तान के साथ थे इसके अलावा उन्होंने FATF की बैठक में भी खुले तौर पर पाकिस्तान का समर्थन किया था. भारत की ओर से जम्मू-कश्मीर के मसले पर तुर्की को दोबारा सोचने के लिए कहा था, लेकिन तुर्की का रुख पाकिस्तान के प्रति ही सॉफ्ट रहा।

बता दें कि 27-28 अक्टूबर को सऊदी अरब में मेगा इन्वेस्टमेंट समिट के बाद पीएम मोदी की तुर्की यात्रा प्रस्तावित थी। तुर्की के इस कदम से दोनो देशों के संबंधों में खटास आई है। हलांकि दोनों देशों के बीच कभी भी बेहतर संबंध नहीं रहे हैं।

Leave a comment